Thursday, October 16, 2008

दर्द ऐसा है कि होता नहीं ज़ख्मों का शुमार।

दर्द ऐसा है कि होता नहीं ज़ख्मों का शुमार।

कौन कर सकता है टूटे हुए रिश्तों का शुमार।

*******

यादें आती है तो ये सिलसिला थमता ही नहीं,

ज़हने-इन्सान से मुमकिन नहीं यादों का शुमार।

*******

ज़िन्दगी मिस्ल किताबों के है पढ़कर देखो,

इस कुतुबखाने में होता नहीं सफ़हों का शुमार।

*******

तुम गिरफ़्तारे-बला कब हो, तुम्हें क्या मालूम,

किस तरह होता है नाकर्दा गुनाहों का शुमार।

*******

इह्तिजाजात में पैसों की है ताक़त का नुमूद,

भीड़, बस करती है मासूम गरीबों का शुमार।

*******

पाँव के आबलों में कूवते-गोयाई नहीं,

किसको है फ़िक्र, करे राह के काँटों का शुमार।

**************

2 comments:

neeshoo said...

बिल्कुल सही लिखा । बधाई

Udan Tashtari said...

पाँव के आबलों में कूवते-गोयाई नहीं,
किसको है फ़िक्र, करे राह के काँटों का शुमार।

-बहुत बढिया.