Thursday, October 9, 2008

मैं बारिशों से भरे बादलों को देखता हूँ

मैं बारिशों से भरे बादलों को देखता हूँ.
शऊरे-दर्द से पुर काविशों को देखता हूँ.
*******
तड़पते ख़ाक पे ताज़ा गुलों को देखता हूँ.
हया से दुबकी हुई, दहशतों को देखता हूँ.
*******
उभर सका न कोई लफ्ज़ जिनपे आकर भी,
मैं थरथराते हुए उन लबों को देखता हूँ.
*******
दिलों को बाँट दिए और ख़ुद रहीं खामोश,
तअल्लुकात की उन सरहदों को देखता हूँ.
*******
मैं अपनी यादों की वीरानियों के गोशे में,
पुराने, आंसुओं से पुर खतों को देखता हूँ.
*******
न आई हिस्से में जिनके ये रोशनी, ये हवा,
चलो मैं चलके कुछ ऐसे घरों को देखता हूँ.
*******
जो कुछ न होके भी सब कुछ हैं दौरे-हाज़िर में,
ख़ुद अपनी आंख से उन ताक़तों को देखता हूँ।
*******
मैं बदहवास फ़िज़ाओं की सुर्ख आंखों में,
हुए नहीं हैं जो, उन हादसों को देखता हूँ।
*************************

3 comments:

seema gupta said...

तड़पते ख़ाक पे ताज़ा गुलों को देखता हूँ.
धमाके देखता हूँ, दहशतों को देखता हूँ.
*******
उभर सका न कोई लफ्ज़ जिनपे आकर भी,
मैं थरथराते हुए उन लबों को देखता हूँ.
"very very touching poetry'
regards

neeshoo said...

bahut accha ji . badhiya likha hai . badhai aap ko

फ़िरदौस ख़ान said...

मैं अपनी यादों की वीरानियों के गोशे में,
पुराने, आंसुओं से पुर खतों को देखता हूँ.
*******
न आई हिस्से में जिनके ये रोशनी, ये हवा,
चलो मैं चलके कुछ ऐसे घरों को देखता हूँ.

बहुत ही दिलकश ग़ज़ल है...