Thursday, October 23, 2008

ज़मीन की इन कुशादा पेशानियों पे कुछ सिल्वटें मिलेंगी.

ज़मीन की इन कुशादा पेशानियों पे कुछ सिल्वटें मिलेंगी.
सदी के सफ़्फ़ाक तेवरों की, लहू भरी आहटें मिलेंगी.
*******
दिलों में शुबहात के दरीचे, खुलेंगे इस तर्ह रफ़्ता-रफ़्ता,
निगाहों में दोस्तों की अनजानी अजनबी करवटें मिलेंगी.
*******
ये रास्ते हमको लेके जायेंगे ऐसे वीरान जंगलों में,
जहाँ हमारे ही जिस्मों की बरगदों से लटकी लटें मिलेंगी.
*******
हमारे दिल में भी है ये ख्वाहिश, कि चाँद को हम भी छू के देखें,
हमें ये शायद ख़बर नहीं है, हमें वहाँ तलछटें मिलेंगी.
*******
तबाहियों से तड़प रहे है जो उनके घर कोई जाए कैसे,
वहाँ फ़क़त चीखते हुए दर, कराहती चौखटें मिलेंगी.
*****************************

No comments: