Thursday, October 9, 2008

सुनो! मैं थक गया हूँ / रेहान अहमद

सुनो! मैं थक गया हूँ
मेरी पलकों पे अबतक कुछ अधूरे ख्वाब जलते हैं
मेरी नींदों में तेरे वस्ल के रेशम उलझते हैं,
मेरे आंसू मेरे चेहरे पे तेरे ग़म को लिखते हैं,
मेरे अन्दर कई सदियों के सन्नाटों का डेरा है,
मेरे अल्फाज़ बाहें वा किए मुझको बुलाते हैं,
मगर मैं थक गया हूँ
और मैंने
खामुशी की गोद में सर रख दिया है।

मैं बालों में तुम्हारे
हिज्र की नर्म उंगलियाँ महसूस करता हूँ।
मेरी पलकों पे जलते ख्वाब हैं अब राख की सूरत,
तुम्हारे वस्ल का रेशम भी अब नींदें नहीं बुनता,
मेरी आंखों में जैसे सर्द मौसम का बसेरा है,
मुझे अन्दर के सन्नाटों में गहरी नींद आई है।
सुनो! इस याद से कह दो
मुझे कुछ देर सोने दे।
**************************

1 comment:

मीत said...

मैं बालों में तुम्हारे
हिज्र की नर्म उंगलियाँ महसूस करता हूँ।
मेरी पलकों पे जलते ख्वाब हैं अब राख की सूरत,
तुम्हारे वस्ल का रेशम भी अब नींदें नहीं बुनता,
मेरी आंखों में जैसे सर्द मौसम का बसेरा है,
मुझे अन्दर के सन्नाटों में गहरी नींद आई है।
सुनो! इस याद से कह दो
मुझे कुछ देर सोने दे।

बहुत खूब. बहुत सुंदर.