Wednesday, October 8, 2008

दरीचों की सदा सुनकर भी

दरीचों की सदा सुनकर भी रातें कुछ नहीं कहतीं।
मकाँ खामोश रहता है, फ़सीलें कुछ नहीं कहतीं।

******
ज़बां से हादसों का ज़िक्र अब कोई नहीं करता,
मैं कैसे मान लूँ शीशों की किरचें कुछ नहीं कहतीं।

******
खमोशी से ये भर जाती हैं आकर अश्क आंखों में,
फ़क़त सन्नाटा कुछ कहता है, यादें कुछ नहीं कहतीं।

******
उभरने लगती हैं एक-एक करके कितनी तस्वीरें,
जगा देती हैं ज़हनों को, मिसालें कुछ नहीं कहतीं।

******
मैं अक्सर देखता हूँ अधखुली आंखों को सुब्हों की,
शबों में इनपे क्या गुजरी है, सुबहें कुछ नहीं कहतीं।

*****
ये इन्सां है जो ऐसे हादसों से टूट जाता है,
जो पड़ जाती हैं रिश्तों में वो गिरहें कुछ नहीं कहतीं.
*****
अंधेरे घोल जाती हैं ये चुपके से फिजाओं में,
किसी के रु-ब-रु मजरूह शामें कुछ नहीं कहतीं.
****************

4 comments:

Vivek Gupta said...

सुंदर |

neeshoo said...

बहुत अच्छी गजल ।

मीत said...

बहुत बढ़िया.

एस. बी. सिंह said...

उभरने लगती हैं एक-एक करके कितनी तस्वीरें,
जगा देती हैं ज़हनों को, मिसालें कुछ नहीं कहतीं।

बहुत सुंदर