Monday, October 13, 2008

नन्हा सा एक पौदा समंदर की रेत पर।



नन्हा सा एक पौदा समंदर की रेत पर।
मसरूफ है समझने में तक़्सीमे-खुश्को-तर।
*****
मौजें कहाँ से आती हैं, जाती हैं किस तरफ़,
बेबाक साहिलों को भी मुतलक़ नहीं ख़बर।
*****
लहरों का ये उछाल ज़मीं की तड़प से है,
तह मे है पानियों के सुलगता किसी का घर।
*****
खाना-खराबियों के सिवा और कुछ नहीं,
अपनी हदों को तोड़ दें अमवाजे-ग़म अगर।
*****
ख़्वाबों में भी हैं आते कई ऐसे मसअले,
हल जिनका जागने पे भी पाता नहीं बशर।
*****
कश्ती पे वो था साथ मुखालिफ़ हवाओं में,
बे-खौफ हम निकल गये दरिया को चीर कर।
*****
पानी में उसका अक्स नज़र आया था कभी,
लेकिन तलाश जारी रही उसकी उम्र भर।
*****************

2 comments:

seema gupta said...

लहरों का ये उछाल ज़मीं की तड़प से है,
तह मे है पानियों के सुलगता किसी का घर।
*****
खाना-खराबियों के सिवा और कुछ नहीं,
अपनी हदों को तोड़ दें अमवाजे-ग़म अगर।
" very good creation, liked it very much"

Regards

neeshoo said...

बहुत सुन्दर रचना ।