Sunday, October 12, 2008

आप में गुम हैं मगर सबकी ख़बर रखते हैं./ जमील मलिक

आप में गुम हैं मगर सबकी ख़बर रखते हैं.
बैठकर घर में ज़माने पे नज़र रखते हैं.
*****
हमसे अब गर्दिशे-दौराँ तुझे क्या लेना है,
एक ही दिल है सो वो जेरो-ज़बर रखते हैं.
*****
जिसने इन तीरा उजालों का भरम रक्खा है,
अपने सीने में वो नादीदा सहर रखते हैं.
*****
रहनुमा खो गए मंजिल तो बुलाती है हमें,
पाँव ज़ख्मी हैं तो क्या, जौके-सफर रखते हैं.
*****
वो अंधेरों के पयम्बर हैं तो क्या गम है 'जमील'
हम वो हैं आंखों में जो शम्सो-क़मर रखते हैं.
*****************************

1 comment:

रंजना said...

बहुत ही खूबसूरत लिखा है.बधाई.