Wednesday, August 20, 2008

ताज़ा ग़ज़लें / ज़ैदी जाफ़र रज़ा

[1]
शिकवए-गर्दिशे-हालात सभी करते हैं
ज़िन्दगी तुझसे सवालात सभी करते हैं.
सामने आते हैं जब करते हैं तारीफ़ मेरी
मसलेहत से ये इनायात सभी करते हैं
हक के इज़हार में होता है तकल्लुफ सब को
वैसे आपस में शिकायात सभी करते हैं
उस से मिलते हैं तो खामोश से हो जाते हैं
उस से मिलने की मगर बात सभी करते हैं
कह दिया उसने अगर कुछ तो है खफगी कैसी
ऐसी बातें यहाँ दिन रात सभी करते हैं
हर कोई फिरका-परस्ती में मुलव्विस तो नहीं
कैसे कह दूँ कि फ़सादात सभी करते हैं
तुमने 'जाफ़र' उसे चाहा तो बुराई क्या है
हुस्न की उसके मुनाजात सभी करते हैं
[2]
इतनी वीरान मेरे दिल की ये धरती क्यों है
ज़िन्दगी इसमें क़दम रखने से डरती क्यों है
एक तन्हा मैं बगावत की अलामत तो नहीं
ज़ह्न में फिर मेरी तस्वीर उभरती क्यों है
मेरी नज़रों से परे रहती है बरबाद हयात
सामने आती है मेरे तो संवरती क्यों है
रात औरों के घरों से तो चली जाती है
मेरे घर आती है जब भी तो ठहरती क्यों है
चाँद से मांग के शफ्फाफ सी किरनों का लिबास
चाँदनी छत पे दबे पाँव उतरती क्यों है
तुम जो हर सुब्ह सजा लेते हो ख़्वाबों की लड़ी
रोज़ 'जाफ़र' ये सरे-शाम बिखरती क्यों है
[3]
उसे हैरत है मैं जिंदा भी हूँ और खुश भी हूँ कैसे
ख़मोशी ही मेरे हक़ में है बेहतर, कुछ कहूँ कैसे
कहा था उसने हक़ गोई से अपनी बाज़ आ जाओ
कहा था मैं ने मैं पत्थर को हीरा मान लूँ कैसे
कहा उसने किसी मौक़े पे झुक जाना भी पड़ता है
कहा मैं ने कि सच्चाई को देखूं सर-नुगूं कैसे
कहा उसने कि चुप रह जाओ कोई कुछ भी कहता हो
कहा मैं ने कि मैं इंसान हूँ पत्थर बनूँ कैसे
कहा उसने कि तुम दुश्मन बना लेते हो दुनिया को
कहा मैं ने कि दुनिया की तरह मैं भी चलूँ कैसे
कहा उसने कि अपनों और बेगानों को पहचानो
कहा मैं ने कि इन लफ्ज़ों में ये मानी भरूं कैसे
मुझे 'जाफ़र रज़ा' फिर भी वो अपना दोस्त कहता है
इनायत उसकी मुझ पर इतनी ज़्यादा है गिनूं कैसे
*************************

1 comment:

रज़िया "राज़" said...

इतनी वीरान मेरे दिल की ये धरती क्यों है
ज़िन्दगी इसमें क़दम रखने से डरती क्यों है
बहोत खूब लिखा है आपने।कभी हमारे ब्लोग पर तशरीफ़ ज़रूर लाना।
http://razia786.wordpress.com