Thursday, August 21, 2008

सूरदास के रूहानी नग़मे / शैलेश ज़ैदी [क्रमशः 5]

[28]
गुरु बिनु ऐसी कौन करै.
माला तिलक मनोहर बाना, लै सिर छत्र धरै..
भव सागर तैं बूड़त राखै, दीपक हाथ धरै..
सूर स्याम गुरु ऐसो समरथ, छीन मैं लै उधरै..


मुर्शिद बगैर ऐसी इनायत करेगा कौन
माला, तिलक, लिबासे-दिलावेज़ बख्श कर
रखते हैं सर पे छत्र ये रहमत करेगा कौन
दरियाए-इश्के-दुनिया में डूबे अगर कोई
हाथों में दे के दीप हिफाज़त करेगा कौन
मुर्शिद हमारे क़ादिरे-मुतलक़ हैं 'सूर' श्याम
बेडा वो पार करते हैं इक प् में सुब्हो-शाम..
[29]
जा दिन संत पाहुने आवत
तीरथ कोटि समान करै फल, जैसे दरसन पावत..
नयौ नेह दिन-दिन प्रति उनकै, चरन कमल चित लावत..
मन वच कर्म और नहिं जानत, सुमिरत औ सुमिरावत..
मिथ्या वाद उपाधि रहित ह्वै, विमल-विमल जस गावत..
बंधन कर्म कठिन जे पहिले, सौऊ काटि बहावत..
संगत रहैं साधू की अनुदिन, भव-दुःख दूरि नसावत..
'सूरदास' संगति करि तिनकी, जे हरि सुरति करावत..


वली-उल्लाह जिस दिन सूरते-मेहमान आता है.
करोड़ों तीर्थ का फल एक पल में बख्श जाता है.
जगाता है दिलों में ज़िक्रे-हक़ से नित नई उल्फ़त.
अमल से, क़ौल से दिल से, खुदा से लौ लगाता है.
सभी झूठे तिलिस्मों से सदा आज़ाद रहता है.
फ़क़त पाकीज़ा औसाफे-इलाही गुनगुनाता है.
वो सब दुश्वारियां पहले जो सद्दे-राह होती थीं.
उन्हें वो दूर करके जिंदगी आसां बनाता है
ज़रूरी है करें संगत सदा हम पीरे-कामिल की
जहाँ के रंजो-गम दुःख-दर्द सब कुछ वो मिटाता है.
तुझे लाजिम है कर ले 'सूर' संगत ऐसे रहबर की
जो अपने फैज़ से दीदारे-हक़ तुझ को कराता है..
[30]
अब कै राखि लेहु भगवान..
हौं अनाथ बैठ्यो द्रुम डरिया, पारधि साधे बान..
ता कै डर जो भजत चहत मैं, ऊपर ढुक्यो सुचान..
दुहूँ भांति दुःख भयौ आनि यह, कौन उबारे प्रान..
सुमिरत ही अहि डस्यो पारधी, कर छूट्यो संधान..
'सूरदास' सर लग्यो सचानहि, जे जे कृपानिधान..


इस मर्तबा बचा लें मुझे आप या खुदा
शाखे-शजर पे बैठा हूँ मैं इक यतीम सा
सैयाद है निशानए-नावक लिए खड़ा
डर से मैं उसके, उड़ने की ख्वाहिश अगर करूँ.
ऊपर है बाज़ ताक में परवाज़ भर रहा
दोनों तरफ़ से मुझ पे मुसीबत है आ पड़ी.
है कौन जो बचाए मेरी जान बरमला
करते ही याद साँप ने सैयाद को डसा.
घबराया ऐसा, हाथ से नावक निकल पड़ा
जाकर वो सीधे बाज़ के सीने में धंस गया..
है 'सूर' सब करम उसी परवरदिगार का..
[31]
रे मन जनम अकारथ खोइसि..
हरि की भक्ति न कबहूँ कीन्हीं, उदर भरे परि सोइसि..
निसि दिन फिरत रहत मुंह बाए, अहमिति जनम बिगोइसि..
गोड़ पसारि परयो दोउ नीकैं, अब कैसी कह होइसि..
काल जमनि सौं आनि बनी है, देखि देखि मुख रोइसि..
'सूर' स्याम बिनु कौन छुडावै, चले जाव भई पोइसि..


ऐ दिल गंवाई तूने अबस अपनी ज़िन्दगी.
बस पेट भर के खाता रहा तू तमाम उम्र
भूले से भी हरी से मुहब्बत कभी न की..
लालच में तू भटकता रहा यूँ ही रात दिन.
तेरे गुरूर ने तेरी खिल्क़त बिगाड़ दी
फैला के दोनों पांवों को गफ़लत में है पड़ा
ख़ुद ही बता कि हो गई हालत ये क्या तेरी..
अब जां पे आ बनी है, तेरे सामने है मौत..
तू देख-देख कर उसे रोता है हर घड़ी..
ऐ 'सूर' मगफिरत है कहाँ श्याम के बगैर..
बस वो ही अब निजात दिलाएं तो हो खुशी.
[32]
जा दिन मन पंछी उडि जैहै...
ता दिन तेरे तन तरुवर के, सबै पात झाड़ जैहै..
घर के कहें बेग ही काढौ, भूत भए कोउ खैहै..
जा प्रीतम सों प्रीति घनेरी, सोऊ देखि डरैहै ..
कहँ वह ताल कहाँ वह सोभा, देखत धूरि उडैहै..
भाई-बन्धु अरु कुटुंब कबीला, सुमिरि सुमिरि पछितैहै..
बिनु गोपाल कोउ नहिं अपनों, जस अपजस रह जैहै..
सो सुख 'सूर' जो दुर्लभ देवन, सत संगति में पैहै..


जिस घड़ी तायरे-अनफास करेगा परवाज़
पत्ता-पत्ता शजरे-जिस्म का झड़ जायेगा
घर के लोगों का बयाँ होगा कि ले जाओ शिताब
बन के शैतान किसी को ये निगल जायेगा..
दिलरुबा जान के रखता था जिसे जां से अज़ीज़
देख कर वो भी तुझे खौफ से थर्रायेगा
न तो होंगे वो तमाशे न वो जलवे होंगे.
हर तरफ़ एक गुबार उड़ता नज़र आएगा
भाई-बंद और तेरा कुनबा-क़बीला हर दम
याद कर कर के तुझे खूब ही पछतायेगा
सिर्फ़ गोपाल ही अपने हैं, पराये हैं सभी
बाक़ी रह जायेगी इस दुनिया में नेकीओ-बदी
देवताओं को मयस्सर नहीं जो कैफों-सुरूर.
सोहबते-नेक में ऐ 'सूर' उसे पायेगा.
[33]
अब मैं नाच्यौ बहुत गोपाल..
काम क्रोध कौ पहिरि चोलना, कंठ विषय की माल. .
महामोह के नूपुर बाजत, निंदा सब्द रसाल..
भरम भरयो मन भयो पखावज, चलत कुसंगत चाल..
तृष्ना नाद करत घट भीतर, नाना विधि दै ताल..
माया कौ करि फेंटा बाँध्यौ, लोभ तिलक दियो भाल..
कोटिक कला कांछि दिखराई, जल थल सुधि नहिं काल..
'सूरदास' की सबै अबिद्या, दूर करहु नंदलाल..


अब बहोत नाच चुका मैं गोपाल..
ख्वाहिशे-नफस वो गुस्से का है चोगा तन पर
है गले में हविसे-दुनिया की तस्बीहे-ज़वाल
हिर्स घुँघरू की तरह बजता है, गीबत है मिठास
क़ल्ब है वह्म से लबरेज़ पखावज की मिसाल
चलता रहता है जो बेमेल सी बेकार सी चाल
जिस्म में गूंजती रहती है तमा की आवाज़..
मुख्तलिफ तरह से देती हुई बदरंग सी ताल..
पारचा जहल का बांधे हूँ कमर में कस कर..
और पेशानी पे लालच के तिलक का है गुलाल..
स्वांग सौ तर्ह के भरता हूँ मैं दुनिया के लिए.
गुम हूँ इस तर्ह कि होती नहीं कुछ फ़िक्रे-विसाल..
'सूरदास' आपका है कैदे-जहालत में असीर.
कीजे आज़ाद उसे अपने करम से नंदलाल .
[34]
तुम्हारी भक्ति हमारे प्रान..
छूटि गए कैसे जन जीवत, ज्यों पानी बिन प्रान..
जैसे मगन नाद सुनि नारंग, बधत बधिक तनु बान..
ज्यों चितवै शशि और चकोरी, देखत ही सुख मान..
जैसे कमल होत परिफुल्लित, देखत दर्शन भान..
'सूरदास' प्रभु हरि गुन मीठे, नित प्रति सुनियत कान..


आपकी भक्ती हमारी जिंदगी.
जां-बलब है आप से छुट कर जहाँ में हर कोई.
सुन के बाजे की सदा मस्ती में आता है हिरन
छेदता है तीर से सैयाद उसका जिस्मो-तन.
देख कर महताब को होता है खुश जैसे चकोर.
जैसे खिलता है कँवल पाकर झलक खुर्शीद की..
'सूरदास' औसाफे-शीरीं हरि के सुनने के लिए .
गोश बार आवाज़ हो जाते हैं रोज़ाना सभी
[35]
जो सुख होत गुपालहिं गाये.
सो नहीं होत जप तप के कीने, कोटिक तीरथ न्हाए..
दिये लेत नहिं चारि पदारथ, चरन कमल चित लाये..
तीन लोक तृन सम करी लेखात, नन्द नंदन उर आए..
बंशी-बट, बृंदाबन यमुना, तजि बैकुंठ को जाए..
'सूरदास' हरि को सुमिरन करि, बहुरि न भव चलि आए..


खुशी होती है जो गोपाल की मद्हो-सना गा कर.
मयस्सर हो नहीं सकती वो जप-तप की रियाज़त में..
जियारत-गाहों पर जा जा के हौजों में नहा कर..
कमल जैसे मुक़द्दस पाँव की उलफत हो गर दिल में..
बशर कौनैन की दौलत को भी तिनका समझता है..
कोई नेमत कभी लेने पे आमादा नहीं होता
भुला कर ब्रिन्दाबन को प्यारी जमना और मुरली को
करेगा क्या भला कोई वहां फिरदौ में जा कर
हरी का ज़िक्रे-पाकीज़ा किया कर 'सूर' तू दिल से
कि फिर वापस तुझे आना न हो दुनिया के अन्दर
************************** क्रमशः

2 comments:

महामंत्री-तस्लीम said...

सूरदास के पदों का उर्दू भावानुवाद पढकर मजा ही आ गया।
यह एक बहुत बडा काम है और इसके लिए आपकी जितनी तारीफ की जाए कम है।

Udan Tashtari said...

आभार इस प्रस्तुति के लिए.