Sunday, August 24, 2008

गुज़र अवक़ात /नसीम सैयद

शमअ के साथ युंही रात पिघलती जाए
एक-एक पल
मेरे एहसास के कशकोल में गिरता जाए
आज खैरात पे माएल है मुहब्बत की नज़र
आज ये कासए-उम्मीद छलक जाने दो
कल ये खैरात बुरे वक़्त में काम आएगी
फिर उगायेंगे
धरेंगे
यही गुज़रा हुआ वक़्त
गुज़र अवक़ात की सूरत तो निकल आएगी.
******************************
115-HILEREST-AVE
2214 APTS, MISSISSAUGA
ONT, 56 379, CANADA

No comments: