Thursday, September 18, 2008

महसूस क्यों न हो मुझे / सहर अंसारी

महसूस क्यों न हो मुझे बेगानगी बहोत।
मैं भी तो इस दयार में हूँ अजनबी बहोत।
आसाँ नहीं है कश्मकशे-ज़ात का सफ़र,
है आगही के बाद गमे-आगही बहोत।
हर शख्स पुर-खुलूस है, हर शख्स बा-वफ़ा,
आती है अपनी सादा-दिली पर हँसी बहोत।
उस जाने-जां से क़तअ-तअल्लुक़ के बावजूद,
मैं ने भी की है शहर में आवारगी बहोत।
मस्ताना-वार वादिए-गम तै करो 'सहर',
बाक़ी हैं ज़िन्दगी के तक़ाज़े अभी बहोत।
******************

1 comment:

फ़िरदौस ख़ान said...

हर शख्स पुर-खुलूस है, हर शख्स बा-वफ़ा,
आती है अपनी सादा-दिली पर हँसी बहोत।
उस जाने-जां से क़तअ-तअल्लुक़ के बावजूद,
मैं ने भी की है शहर में आवारगी बहोत।

ख़ूबसूरत...शानदार ग़ज़ल...