Tuesday, September 2, 2008

सफ़र में दिल को / क़ालिब मिर्ज़ापूरी

सफ़र में दिल को मयस्सर कहीं क़रार न था।
कई दरख्त मिले, कोई साया-दार न था।
जो मोतबर थे बज़ाहिर, वो दूर-दूर रहे
उसी ने साथ दिया जिसका एतबार न था।
बशर-नवाज़ों में उसका शुमार होता था,
वो आदमी जिसे इंसानियत से प्यार न था।
नज़र मिला न सकी मुन्सफी अदालत से,
सज़ा मिली थी उसे जो कुसूरवार न था।
मेरे नसीब में लिख दी गई थी महरूमी,
मेरे चमन के लिए मौसमे-बहार न था।
***************

4 comments:

manvinder bhimber said...

सफ़र में दिल को मयस्सर कहीं क़रार न था।
कई दरख्त मिले, कोई साया-दार न था।
जो मोतबर थे बज़ाहिर, वो दूर-दूर रहे
उसी ने साथ दिया जिसका एतबार न था।
kya andaaj hai

परमजीत बाली said...

बहुत बढिया रचना है।

सफ़र में दिल को मयस्सर कहीं क़रार न था।
कई दरख्त मिले, कोई साया-दार न था।
जो मोतबर थे बज़ाहिर, वो दूर-दूर रहे
उसी ने साथ दिया जिसका एतबार न था।
बहुत सुन्दर!!

जितेन्द़ भगत said...

सारी पंक्‍ति‍यॉं एक से बढ़कर एक। लाजवाब।

vipinkizindagi said...

सुन्दर.......