Saturday, September 20, 2008

किस क़दर उसके बदन में

किस क़दर उसके बदन में है दमक देखता हूँ।
आ गई है मेरी आंखों में चमक देखता हूँ।
नुक़रई किरनें थिरकती हैं अजब लोच के साथ,
चाँदनी रात में भी एक खनक देखता हूँ।
ऐसा लगता है कि जैसे हो किसी फूल की शाख,
उसके अंदाज़ में नरमी की लचक देखता हूँ।
छू के उसको ये हवाएं इधर आई हैं ज़रूर,
हू-ब-हू इनमें उसी की है महक देखता हूँ।
वो गुज़र जाता है जब पास से होकर मेरे,
अपने अन्दर किसी शोले की लपक देखता हूँ ।
शाम की सांवली रंगत में उसी की है कशिश,
वरना क्यों शाम के चेहरे पे नमक देखता हूँ।
उसका गुलरंग सरापा है नज़र में पिन्हाँ,
इन फिजाओं में उसी की मैं झलक देखता हूँ।
देखकर कूचए जानां में मुझे जाते हुए,
आज मौसम की निगाहों में है शक, देखता हूँ।
*********************

2 comments:

रंजना said...

वाह,बहुत ही सुंदर पंक्तिया हैं.

Udan Tashtari said...

बहुत सुन्दर रचना!!