Friday, September 5, 2008

समंदर और साहिल / ज़ैदी जाफ़र रज़ा


बहोत उदास सा, मगमूम सा ये मंज़र है
दरख्त ऐसे खड़े हैं खमोश, गोया इन्हें
कहीं खलाओं में पोशीदा, तेज़ तूफाँ के
ज़मीं पे आके तबाही मचाने का डर है.
ये साहिलों का तड़पता, गरीब सन्नाटा
ज़बान से जो समंदर की खूब वाकिफ है
अभी-अभी इसे समझाया है समंदर ने
कि दूर-दूर से आए शगुफ्ता चेह्रों को
खला में होती हुई साजिशों का कोई पता
किसी भी तर्ह, किसी पल न तुम बताओगे
किया जो ऐसा तो ख़ुद को कहीं न पाओगे
तुम्हारे सीने में पेवस्त ऐसा खंजर है
जो टूट जाए अगर, आसमान टूट पड़े.
तबाहियों का मुकम्मल जहान टूट पड़े.
*************
[छाया-चित्र : सैयद, कैलिफोर्निया]

1 comment:

Udan Tashtari said...

आनन्द आ गया रज़ा साहेब को पढ़कर, बहुत आभार आपका!!

--------------------

निवेदन

आप लिखते हैं, अपने ब्लॉग पर छापते हैं. आप चाहते हैं लोग आपको पढ़ें और आपको बतायें कि उनकी प्रतिक्रिया क्या है.

ऐसा ही सब चाहते हैं.

कृप्या दूसरों को पढ़ने और टिप्पणी कर अपनी प्रतिक्रिया देने में संकोच न करें.

हिन्दी चिट्ठाकारी को सुदृण बनाने एवं उसके प्रसार-प्रचार के लिए यह कदम अति महत्वपूर्ण है, इसमें अपना भरसक योगदान करें.

-समीर लाल
-उड़न तश्तरी