Thursday, February 12, 2009

हर समय, आकर गुज़र जाता है, हर इंसान का.

हर समय, आकर गुज़र जाता है, हर इंसान का.
प्यार में लेकिन समय आता नहीं अवसान का.
इस अवस्था में, कि जब एकांत है मेरी नियति,
मोह विह्वल कर रहा है किस लिए संतान का.
दर्द, पीड़ा उलझनें, बेचैनियाँ, आवारगी,
ये तो बस पहला सबक़ है इश्क़ के सोपान का.
उसकी घूँघरदार अलकें प्रेम की ज़ंजीर हैं,
और मैं क़ैदी हूँ उसके रेशमी परिधान का.
खुल अगर जाये कभी सौन्दर्य का उसके रहस्य,
आदमी, दीवाना हो जाये, अनूठी शान का.
ये वो कारागार है जिससे नहीं मिलता फ़रार,
हर समय पहरा यहाँ रहता है उसके ध्यान का.
कौन सत्ता में है ये 'कमलेश्वर' को था पता,
कथ्य देता है गवाही 'कितने पाकिस्तान' का.
दोपहर की चिलचिलाती धूप में निकला हूँ मैं,
ध्यान आया जब मुझे तेरे सरोसामान का.
मुझसे अच्छे भी न जाने कितने आयेंगे अभी,
आखिरी गायक नहीं मैं इश्क के पादान का.
कौन लेता है युवावस्था में जिम्मेदारियां,
घर चलाना काम है बूढों के धर्म-ईमान का.
होश की बातें जो करते हैं न समझेंगे कभी,
मेरी मदहोशी, कथानक है मेरी पहचान का।
*********************

No comments: