Saturday, February 7, 2009

आबाई मिल्कियत थी ज़माने से जो ज़मीन.

आबाई मिल्कियत थी ज़माने से जो ज़मीन.
आया वो युग, कि हो गई सरकार के अधीन.
पहले थे खुश कि रखते हैं विष हम भी अपने साथ,
फैलाव से है साँप के अब, तंग आस्तीन.
अभिनेता और नेता हैं दोनों कला में दक्ष,
इनके ही वंश में हुए सब इनके जानशीन.
संकल्प का हो कोडा, तो मंजिल नहीं है दूर,
कस लो समय के घोडे पे संभावना की ज़ीन.
जाँबाज़ियों के देते हैं वक्तव्य रात-दिन,
व्यवहार में रहे हैं हमेशा तमाशबीन.
अब कह रहे हैं ऐसे कई मित्र भी ग़ज़ल,
जो बोल तक न पाये कभी 'ज़्वाद', 'क़ाफ़', 'शीन'.
मैं रचना-कर्मियों से शिकायत करूँगा क्या,
ख़ुद आजतक हुई न मेरी चेतना नवीन.
धरती निभाती आयी है अपनी परम्परा,
आकाश पर हैं दर्ज कुछ आलेख समयुगीन।

*************

2 comments:

Dr. Amar Jyoti said...

'फैलाव से है साँप के…'
'कस लो समय के…'
'आकाश पर हैं दर्ज…'
बहुत सुन्दर और सामयिक।

इष्ट देव सांकृत्यायन said...

जाँबाज़ियों के देते हैं वक्तव्य रात-दिन,
व्यवहार में रहे हैं हमेशा तमाशबीन.

आमीन .. आमीन... आमीन....