Friday, February 20, 2009

डस गया हो साँप जैसे फ़िक्र की परवाज़ को.

डस गया हो साँप जैसे फ़िक्र की परवाज़ को.
लब हिलाना भी हुआ मुश्किल सुख़न के साज़ को.
फूल, पत्ते, शाख, कलियाँ, रंगों-बू हैं नगमा-रेज़,
फिर भी सब पहचान लेते हैं तेरी आवाज़ को.
शोखियाँ, नाज़ो-अदा, खफ़्गी, शिकायत, आरज़ू,
भर लिया आंखों में हमने उसके हर अंदाज़ को.
वक़्त ने रख दी उलट कर इक़्तिदारों की बिसात,
डर कबूतर से न क्यों लगने लगे शाहबाज़ को.
ये समझ कर खुल न पाएंगी कभी अब साजिशें,
क़त्ल कर देते हैं ज़ालिम, हमनवा हमराज़ को.
जब पता है, सिर्फ़ मक़सद है हुकूमत की कशिश,
जोड़ कर देखेंगे क्यों अंजाम से आगाज़ को.
**************
फ़िक्र=चिंतन, परवाज़=उड़ान, सुखन=कविता, साज़=वाद्य, नगमा-रेज़=सुरीली आवाज़ में गाने वाला, इक़तिदारों=अधिकारों, बिसात=शतरंज का बोर्ड/ पूँजी / हैसियत,शाहबाज़=शिकारी बाज़ पक्षी / श्येन, साजिशें= षड़यंत्र, हमनवा-हमराज़= रहस्यों में शरीक मित्र, मकसद=उद्देश्य, अंजाम=परिणाम, आगाज़=प्रारंभ.

1 comment:

गौतम राजरिशी said...

"जब पता है, सिर्फ़ मक़सद है हुकूमत की कशिश/जोड़ कर देखेंगे क्यों अंजाम से आगाज़ को"
बहुत खूब सर......
और इस शेर पे तो "वक़्त ने रख दी उलट कर इक़्तिदारों की बिसात/डर कबूतर से न क्यों लगने लगे शाहबाज़ को" निछावर हुये हम