Tuesday, February 3, 2009

काटा गया दरख्त, कलेजा सिमट गया.

काटा गया दरख्त, कलेजा सिमट गया.
आरे से कट के, सर भी, दो टुकडों में बंट गया [1]
दिखलाई दी शजर की हरी पत्तियों में आग,
जब गुफ्तुगू हुई, तो जो परदा था हट गया.[2]
फेंका गया जो दरिया में, मछली निगल गई,
जिंदा रहा, हयात की जानिब पलट गया. [3]
फ़ौलाद उसकी उँगलियों के सामने था मोम,
मोडा जहाँ से चाहा, जहाँ चाहा कट गया. [4]
कूएँ में फेका उसको, हसद भाइयों को थी,
पायी ख़बर जो बाप ने, सीना ही फट गया. [5]
गायब जो हो चुकी थी, वो बीनाई आ गई,
बेटे का कुरता आंखों से जिसदम लिपट गया. [6]
शोले दहकती आग के सब फूल बन गए,
बातिल परस्त ताक़तों का ज़ोर घट गया. [7]
********************

विशेष : श्रीप्रद कुरआन में नबियों से सम्बद्ध जो कथाएँ उपलब्ध हैं, उन्हें अलग-अलग शेरों में संदर्भित किया गया है. [1] हज़रत ज़कारिया [2] हज़रत मूसा [3] हज़रत युनुस [4] हज़रत दाऊद [5] तथा [6] हज़रत याकूब और उनके बेटे हज़रत युसूफ [7] हज़रत इब्राहिम [अ.]

1 comment:

Udan Tashtari said...

फेंका गया जो दरिया में, मछली निगल गई,
जिंदा रहा, हयात की जानिब पलट गया.

-बहुत बेहतरीन!!