Sunday, December 28, 2008

वो अगर सुन सके मेरी कुछ इल्तिजा,

वो अगर सुन सके मेरी कुछ इल्तिजा, मैं समंदर से गहराइयां मांग लूँ. / क़ल्ब की वुसअतें, ज़ह्ने-संजीदा की सब-की-सब मोतबर खूबियाँ मांग लूँ.
*******
चाँद हो जाए मुझपर जो कुछ मेहरबाँ, पहले तो उससे घुल-मिल के बातें करूँ. / और फिर एक साइल के अंदाज़ में, उसकी ठंडक का उससे जहाँ मांग लूँ.
*******
देखता हूँ परिंदों को उड़ते हुए, आसमानों की नीली फ़िज़ाओं में जब, / जी में आता है परवाज़ मैं भी करूँ, क्यों न उनसे ये फ़न, ये समाँ मांग लूँ.
*******
ज़िन्दगी का ज़रा भी भरोसा नहीं, जाने किस वक़्त कह दे मुझे अलविदा, / खालिके-कुल को रहमान कहता हूँ मैं, दे अगर ज़ीस्ते-जाविदाँ मांग लूँ.
*******
इन बहारों में कोई भी लज्ज़त नही, मौसमे गुल की मुझको ज़रूरत नहीं, / मेरी तनहाइयों का तक़ाज़ा है ये, क्यों न मैं फिर से दौरे-खिज़ाँ मांग लूँ.
*******
क्यों है माहौले-जंगो-जदल हर तरफ़, कैसी बारूद की बू है ज़र्रात में, / बाहमी-अम्न की सूरतें हों जहाँ, चलके थोडी सी मैं भी अमां मांग लूँ.
****************

इल्तिजा = निवेदन, क़ल्ब = ह्रदय, वुसअतें = फैलाव, विस्तार, ज़हने-संजीदा = गंभीर मस्तिष्क, मोतबर = विश्वसनीय, साइल =याचक, परवाज़ = उड़ान, फ़न = कला, समाँ = दृश्य, अल-विदा = बिदा, खालिके-कुल = स्रष्टा, रहमान = कृपाशील, जीस्ते-जाविदाँ = अमरत्व, लज़्ज़त = स्वाद, दौरे-खिजां = पतझड़ का मौसम, माहौले-जंगो-जदल = यूद्ध का वातावरण, ज़र्रात =कण, बाहमी अम्न = पारस्परिक शान्ति, अमां = शान्ति।

2 comments:

गौतम राजरिशी said...

अच्छी गज़ल...उर्दू के चंद क्लिष्ट शब्द,मगर अवरोध पैदा करते हैं,लेकिन ये कमी तो मेरी है..गज़ल की नहीं

इस्मत ज़ैदी said...

क्यों है माहौले-जंगो-जदल हर तरफ़, कैसी बारूद की बू है ज़र्रात में, / बाहमी-अम्न की सूरतें हों जहाँ, चलके थोडी सी मैं भी अमां मांग लूँ.

क्या बात है!
इतनी लंबी बहर को इतनी ख़ूबी से निभाया है आप ने कि ज़बान गुंग हो गई,क़लम की नोक पे अल्फ़ाज़ ठहर से गए हैं ,
सोच रही हूं क्या कभी मैं ऐसा लिख पाऊंगी?