Tuesday, December 30, 2008

लिप्त हैं लोग सिंहासनों में.

लिप्त हैं लोग सिंहासनों में.
कौन आयेगा पीड़ित जनों में.
*******
राजनीतिक नहीं उसकी चिंता,
उसका चिंतन है कब बंधनों में.
*******
कक्ष से अपने बाहर निकलिए,
रोशनी है खुले आंगनों में.
*******
पेंग झूले की, कजरी की धुन हो,
रंग भर जायेगा सावनों में.
*******
आजके अंगदों पर भरोसा,
भूलकर भी न रखिये मनों में.
*******
ज़िन्दगी से अपरिचित रहे हैं,
खो गए हैं जो सुख-साधनों में.
*******
घन-गरज जितनी भी चाहें कर लें,
वृष्टि-जल कब है काले घनों में.
*******
देख लीजे हैं कितने सुखी हम,
बेकली है भरी दामनों में.
*******
हो गए और भी लोग हलके,
जब वज़न आ गया वेतनों में.
*******
फूल खिलते नहीं पहले जैसे,
खुशबुएँ अब नहीं उपवनों में.
************

1 comment:

"अर्श" said...

नव वर्ष पे आपको तथा आपके पुरे परिवार को मेरे तरफ़ से बधाई और मगलाकमानाएं ......

अर्श