Friday, December 5, 2008

देख कर वातावरण पहले तो थर्राई ग़ज़ल.



देख कर वातावरण पहले तो थर्राई ग़ज़ल.
प्रेम की सौगात लेकर फिर निकल आई ग़ज़ल.
*******
धूप मतला, छाँव मक़ता, शेर सुरभित क्यारियाँ,
गा रही थी आज मेरे घर की अंगनाई ग़ज़ल.
*******
लोग थे संत्रस्त खोकर शान्ति की पूँजी वहाँ,
कर रही थी हौले-हौले सबकी भरपाई ग़ज़ल.
*******
आपके, मेरे, सभी के चूम लेती है अधर,
सब विधाओं से अलग दिखती है हरजाई ग़ज़ल.
*******
जाने क्यों ख़ुद अपनी ही गहराइयों में खो गई,
नापने निकली समुन्दर की जो गहराई ग़ज़ल.
*******
लखनवी कुरते पहेनकर भी कभी तो देखिये,
सूई धागे की है हर बारीक तुरपाई ग़ज़ल.
*******
सारा अल्ल्हड़पन अकेले में था दर्पण के समक्ष,
जब मिली मुझसे तो सिमटी और शरमाई ग़ज़ल.
*******
मुग्ध होकर सुन रहा था मैं कई मित्रों के साथ,
सूर के पद और तुलसी की थी चौपाई ग़ज़ल.
*******
मुझको अब 'शैलेश' कोई भी लुभा सकता नहीं,
सामने है मेरी आंखों के वो गदराई ग़ज़ल.
**************

1 comment:

Dr. Amar Jyoti said...

(हम तो)कहते हैं कि ज़ैदी का है अन्दाज़-ए-बयां और
बधाई।