Saturday, December 6, 2008

लू के झक्कड़ सर्दियों में रात भर चलते रहे.

लू के झक्कड़ सर्दियों में रात भर चलते रहे.
गंध से बारूद की डर कर सभी दुबके रहे.
*******
धूएँ के बादल घुसे शयनायनों में बदहवास,
धड़कनों को मौत की चुप-चाप हम सुनते रहे.
*******
खून में लथ-पथ हवाएं बांचने आयीं कथा,
शब्द साँसों में पिघलकर देर तक रिसते रहे.
*******
लाल थे वीरांगनाओं के हुए थे जो शहीद,
हर जगह वातावरण में बस यही चर्चे रहे.
*******
क्या पता होते हैं ये वीभत्स हत्याकांड क्यों,
हम इन्हीं प्रश्नों के भीतर रात-दिन उलझे रहे.
*******
दैत्य सी छायाएं नेताओं की आयीं सामने,
उनके दुष्कृत्यों से होकर क्षुब्ध हम टूटे रहे.
**************

1 comment:

"अर्श" said...

बहोत खूब लिखा है आपने ढेरो बधाई आपको.