Friday, December 19, 2008

मैं अपने बचपने में लौट जाता तो मज़ा आता.

मैं अपने बचपने में लौट जाता तो मज़ा आता.
शरारत से सभी को मुंह चिड़ाता तो मज़ा आता.
*******
बहोत संजीदा भी खामोश भी रहने लगा हूँ मैं,
कोई शोखी से मुझको गुदगुदाता तो मज़ा आता.
*******
मेरी तनहाइयों को चीर कर आता कोई साया,
खुशी से, मुझको सीने से लगाता तो मज़ा आता.
*******
ज़रा सी भी नहीं है फ़िक्र मेरी उसको, सुनता हूँ,
किसी सूरत मैं उसको भूल पाता तो मज़ा आता.
*******
उसे एहसास कब है वो मुसलसल ज़ुल्म ढाता है,
कोई उसपर भी थोड़ा ज़ुल्म ढाता तो मज़ा आता.
*******
मैं साहिल पर खड़ा हूँ, मेरा हमदम दूर है मुझसे,
वो मेरे साथ होता, गुनगुनाता तो मज़ा आता.
*******
चलो अच्छा हुआ मैं उसकी महफ़िल में नहीं पहोंचा,
उसे जब बिजलियाँ मुझ पर गिराता तो मज़ा आता.
********
मेरा हमसाया जाने कब सलीका सीख पायेगा,
मुहब्बत से कभी आँखें मिलाता तो मज़ा आता.
**************

1 comment:

विनय said...

सचमुच बड़ा मज़ा आता वही शरारत फिर करते हा-हा