Wednesday, December 17, 2008

आप कितनी भी प्रतीक्षा कीजिये होगा वही.

आप कितनी भी प्रतीक्षा कीजिये होगा वही.
जिनसे आशाएं हैं, देंगे फिर हमें धोखा वही.
*******
जैसी घटनाओं की आशंका थी पहले से हमें,
मूक दर्शक बनके हमने दृश्य सब झेला वही.
*******
आदमी की जान का अब मूल्य ही क्या रह गया,
आज की दुनिया में शायद सबसे है सस्ता वही.
*******
अपने षड्यंत्रों से जिसने हमको आतंकित किया,
भेद खुलने पर हुआ संसार में रुसवा वही.
*******
सबके मन-मस्तिष्क में घर कर गया वो हादसा,
रात-दिन रहती है घर बाहर महज़ चर्चा वही.
*******
कम न था आतंक रावण का, हुआ उसका विनाश,
आज़मा कर देखिये ब्रह्मास्त्र का नुस्खा वही.
*******
आज भी गाँवों में है गोदान प्रासंगिक बहुत,
खेत-खलिहानों में हैं, होरी वही, धनिया वही.
*******
छप्परों में साँस गिनते-गिनते मर जायेंगे वो,
उनका दुख वो जानते हैं जिनपे है बीता वही.
*******
हर क़दम पर जिसने हमको आपको धोखा दिया,
उस पुरस्कृत पंक्ति में आगे मिला बैठा वही,
**************

1 comment:

Dr. Amar Jyoti said...

'खेत खलिहानों मे हैं…'
बहुत ख़ूब।