Sunday, December 14, 2008

ग़ज़ल : शैलेश ज़ैदी : उन्हें इतिहास का हर शब्द झुठलाना लगा अच्छा.

उन्हें इतिहास का हर शब्द झुठलाना लगा अच्छा.
जो पैमाना था उनका, बस वो पैमाना लगा अच्छा.
*******
वतन कहते थे जब हम, आतंरिक सद्भाव था उसमें,
हुए हम औपचारिक, राष्ट्र कहलाना लगा अच्छा.
*******
ज़माने ने दिखाए राजनीतिक दाव-पेच ऐसे,
हमें बनवास भाया और वीराना लगा अच्छा.
*******
हैं रखते राजनेता साँप अपनी आस्तीनों में,
उन्हें प्रतिद्वंदियों को उनसे डसवाना लगा अच्छा.
*******
सभी वैदिक-ऋचाएं सागरों के सीप जैसी हैं.
मुझे उनमें छुपे मोती का हर दाना लगा अच्छा.
*******
मिलाना आँख तथ्यों से असंभव हो गया ऐसा,
उसे हर-हर क़दम पर हमसे कतराना लगा अच्छा.
*******
वही हिंसक भी है, हिंसा विरोधी स्वर भी उसका है,
समय के साथ उसका स्वांग अपनाना लगा अच्छा.
*******
वो घायल था, मैं लेकर जा रहा था हस्पताल उसको,
मुझे इस तेज़-रफ़तारी का जुर्माना लगा अच्छा.
*******
मैं अपने भाग्य की रेखाओं को ख़ुद से बनाता हूँ,
ये कहता था मेरे भीतर जो दीवाना, लगा अच्छा.
**************

2 comments:

umeshawa said...

आप कुछ सही कुछ गलत कहना चाहते है, या दुसरे को अनुभव कराना चाहते है ऐसा लगता है। लेकिन स्प्ष्टता नही है। कई बाते अस्पष्ट ही सही रहती है। लगे रहिए .....

अशोक मधुप said...

सभी वैदिक-ऋचाएं सागरों के सीप जैसी हैं.
मुझे उनमें छुपे मोती का हर दाना लगा
बहुत अच्छी गजल। बधाई