Saturday, December 20, 2008

हम नहीं कहते हमारा साथ चलकर दीजिये.

हम नहीं कहते हमारा साथ चलकर दीजिये.
मोरचों पर प्रोत्साहन तो निरंतर दीजिये.
*******
मैं कला का हूँ पुजारी, आप हैं जीवित कला,
अपने सौन्दर्यानिरूपण से मुझे तर दीजिये.
*******
भूख से ये बस्तियां होंगी भला कब तक तबाह,
अब न हो उपवास, कुछ ऐसी कृपा कर दीजिये.
*******
और कुछ दें, या न दें, इतना तो कर सकते हैं आप,
माँगने वाले की झोली प्यार से भर दीजिये.
*******
ज़िन्दगी है अब किराए के मकानों की तरह,
उसको सस्ती क़ीमतों में कुछ नये घर दीजिये.
*******
एक हलकी सी धमक से आपको लगता है डर,
जब नपुंसक है तो फिर ओखल में क्यों सर दीजिये.
*******
अंग-रक्षक साथ हैं, इतना है क्यों प्राणों से मोह,
बांधिए सर पर कफ़न दुश्मन को टक्कर दीजिये.
*******
गाँव से भरकर उडानें आप दिल्ली तक गए,
वो भी उड़ने में है सक्षम, उसको भी पर दीजिये.
*************

1 comment:

एस. बी. सिंह said...

अंग-रक्षक साथ हैं, इतना है क्यों प्राणों से मोह,
बांधिए सर पर कफ़न दुश्मन को टक्कर दीजिये।

बहुत सही कहा आपने।