Saturday, January 17, 2009

संवारते थे मेरे स्वप्न मशवरे देकर.

संवारते थे मेरे स्वप्न मशवरे देकर.
चले गए वो सभी मित्र हौसले देकर.
******
ये बात सच है कि मैं दो क़दम बढ़ा न सका,
खुशी मिली मुझे औरों को रास्ते देकर.
*******
दुखों का काफ्ला ठहरा था मेरे घर आकर,
बिदा हुआ तो गया मुझको रतजगे देकर.
*******
ये सरहदों का तिलिस्मी स्वभाव कैसा है,
ये हँसता रहता है मुद्दे नये-नये देकर.
*******
वो लेके आया बसंती हवाओं की खुशबू,
जुदा हुआ वो मुझे ज़ख्म कुछ हरे देकर.
*******
खुली है खिड़कियाँ उतरेगा चाँद कमरे में,
मैं उसको रोकूंगा कुछ ख्वाब चुलबुले देकर.
**************

4 comments:

Nirmla Kapila said...

sanvaarte the mere-----bahut hi badiyaa abhivyakti hai

SWAPN said...

sunder rachna . badhai.

hempandey said...

'ये बात सच है कि मैं दो क़दम बढ़ा न सका,
खुशी मिली मुझे औरों को रास्ते देकर.'
- सकारात्मक सोच. साधुवाद.

"अर्श" said...

मतला तो कमाल का है साथ में शे'र तो चर्चंद लगा रहे है...बहोत बढ़िया लिखा है आपने...ढेरो बधाई कुबूल करें...

अर्श