Monday, January 12, 2009

संतुष्ट हूँ कि मन में कलुषता नहीं कोई.

संतुष्ट हूँ कि मन में कलुषता नहीं कोई.
पर्वा नहीं है गर मुझे समझा नहीं कोई.
*******
पीड़ा से जन्म लेते हैं रचनात्मक विचार,
वो रचनाकार क्या जिसे पीड़ा नहीं कोई.
*******
करते रहे शिकायतें बस अन्धकार की,
हमने कभी चिराग जलाया नहीं कोई.
*******
चिन्ता में दूसरों की गले जा रहे हैं लोग,
अपने दुखों से शह्र में दुबला नहीं कोई.
*******
गंभीरता से कीजिए सौहार्द पर विचार,
चिंतन का ये विषय है, तमाशा नहीं कोई.
*******
प्यासे हैं, गर्म रेत है, मंजिल भी दूर है,
जारी सफर है, राह में दरया नहीं कोई.
*******
चहरे उदास, होंठों पे पपडी जमी हुई,
पर झोंपड़ों में भूख का शिकवा नहीं कोई.
*******
इन बस्तियों में प्यार कभी बांटिये तो आप,
फिर कह सकें तो कहिये कि अच्छा नहीं कोई.
**************

4 comments:

आदर्श राठौर said...

वाह

Ravi said...

बहुत खूब !

"अर्श" said...

ek bar fir se umda........

Dr. Amar Jyoti said...

'करते रहे शिकायतें…'
बहुत सुन्दर और सार्थक।