Thursday, January 15, 2009

सच बात अगर कहिये तो कड़वी सी है लगती.

सच बात अगर कहिये तो कड़वी सी है लगती।
ये दुनिया महज़ झूट की आदी सी है लगती।

*******
नफ़रत की हैं चिंगारियां जब पहले से दिल में,
जाड़े की गरम धूप भी बरछी सी है लगती।
*******
किस बात की दहशत है किसी को नहीं परवा,
इस शह्र की ये बस्ती तो सहमी सी है लगती।
*******
उस गाय को सब पालने की रखते हैं ख्वाहिश,
जो गाय बहोत ज्यादा दुधारी सी है लगती।
*******
ये दौर मुलम्मों का है लाजिम है सजावट,
महँगी है वही शय जो अनोखी सी है लगती।

*******
हर बात मैं कह देता हूँ क्यों खुल के ग़ज़ल में,
जो तंग-नज़र हैं उन्हें चुभती सी है लगती।
*******
करते नहीं गर आप सताइश तो न कीजे,
मुझको ये अदा आपकी अच्छी सी है लगती।
**************

3 comments:

विनय said...

बहुत बढ़िया रचना

---
आप भारतीय हैं तो अपने ब्लॉग पर तिरंगा लगाना अवश्य पसंद करेगे, जाने कैसे?
तकनीक दृष्टा/Tech Prevue

Nirmla Kapila said...

ye daur mulamon kaa hai----kyaa khoob kaha hai

Suresh Chnadra Gupta said...

अच्छी रचना है. सच बात कड़वी तो लगती है पर उसकी तासीर मीठी होती है.