Sunday, January 25, 2009

चोट खाने पे भी हैरत है कि आँखें न खुलीं.

चोट खाने पे भी हैरत है कि आँखें न खुलीं.
रह गयीं बंद, तजर्बात की परतें न खुलीं.
देख के उर्यां-बदन वक़्त की दहशत-गर्दी,
हल्क़ में घुट गयीं इस तर्ह कि चीखें न खुलीं.
मैं था हैरान कि झूले पे मैं साकित क्यों हूँ,
सामने रूप कुछ ऐसा था कि पेंगें न खुलीं.
थम गयीं देख के यकलख्त किसी का चेहरा,
राज़ सीने में छुपाये रहीं साँसें न खुलीं.
सुल्ह कुछ शर्तों पे आपस में हुई थी ऐसी,
सर पटकते रहे अहबाब वो शर्तें न खुलीं.
शह्र की सडकों पे होती रही खालिक की नमाज़,
ज़ख्मी मखलूक तड़पता रहा सड़कें न खुलीं.
एक बच्चे की तरह दौड़ा मुक़द्दर की तरफ़,
संगदिल था वो कुछ ऐसा कभी बाहें न खुलीं.
**************

2 comments:

AKSHAT VICHAR said...

lajvaab....

गौतम राजरिशी said...

पता नहीं ये गज़ल कैसे मेरी आँखों से छिपी रह गयी...
बहुत खूब