Wednesday, January 14, 2009

वो कभी इतिहास को पढ़ता नहीं.

वो कभी इतिहास को पढ़ता नहीं.
इसलिए कुछ झूठ-सच गढ़ता नहीं।

*******
इस सदी में भी वो कितना मूर्ख है,
दोष औरों पर कभी मढ़ता नहीं।

*******
झूठ को दुहराते रहिये बार-बार,
सच भी उसकी तर्ह सिर चढ़ता नहीं।

*******
हौसले हो जाते हैं जिसके शिथिल,
थक के फिर आगे कभी बढ़ता नहीं।

*******
बेल-बूटे काढते थे जो कभी,
आज उन हाथों से कुछ कढता नहीं।

**************

1 comment:

"अर्श" said...

बेमिशाल.लिखा है आपने ढेरो बधाई कुबुलें...


अर्श