Friday, January 23, 2009

मैं कड़ी धूप के सन्नाटों को पिघला न सका.

मैं कड़ी धूप के सन्नाटों को पिघला न सका.
तल्ख़ से होते हुए रिश्तों को पिघला न सका.
पा गयीं मुझको अकेला तो हुईं पहलू-नशीं,
और मैं चुभती हुई यादों को पिघला न सका.
लम्हे आये थे मेरे क़त्ल की साजिश लेकर,
वक़्त खामोश था उन लम्हों को पिघला न सका.
उसकी देहलीज़ पे सज्दे तो किये मैं ने बहोत,
ग़म यही है कि मैं उन सज्दों को पिघला न सका.
दिल के जांबाज़ दमागों से मुहिम जीत गये,
शोलए-फ़िक्र कभी जज़बों को पिघला न सका.
आख़िर उस शख्स की तहरीर का मक़्सद क्या है,
अपनी तख्लीक़ में जो सदियों को पिघला न सका.
**************

4 comments:

देशों में देश हरियाणा said...

बहुत खूब...

Dr. Amar Jyoti said...

'पा गईं मुझको अकेला…'
बहुत ख़ूब!

रवीन्द्र प्रभात said...

बहुत सुंदर ...!

Nirmla Kapila said...

बहुत ही भावनात्मक सुन्दर रचना है ब्धाई