Monday, January 19, 2009

लग जाय कोई दाग़ न दामन समेट लो।

लग जाय कोई दाग़ न दामन समेट लो।

विद्रोह से भरा हुआ चिंतन समेट लो।

*******

कुछ होश भी है तुमको कड़कती हैं बिजलियाँ,

अच्छा यही है अपना नशेमन समेट लो।

*******

देखो उमड़ रहा है घटाओं का सिल्सिला,

आँगन में भीग जायेगा ईंधन समेट लो।

*******

आभास दुख का औरों को होने न दो कभी,

आंखों में तैरता हुआ सावन समेट लो।

*******

बेटों को जब विदेश में ही मिल रहा हो सुख,

तुम भी ये अपने मोह का बंधन समेट लो।

*******

सम्भव है आँधियों का न कर पाये सामना,

हल्का बहुत है फूस का छाजन समेट लो।

**************

1 comment:

"अर्श" said...

क्या साहब एक पे एक बेहतरीन ग़ज़ल पढ़ने को मिलता है आपके ब्लॉग पे ये ब्लॉग मेरा पसंदीदा है आपका ढेरो बधाई ...

अर्श