Sunday, January 11, 2009

शोक की मनःस्थिति, मांगती है संवेदन.

शोक की मनःस्थिति, मांगती है संवेदन.
आंसुओं की पीड़ा को, समझेंगे न दुह्शासन.
*****
सब दुखों की गहराई, नापते हैं शब्दों से,
कोई सुन नहीं पाता, चित्त का व्यथित क्रंदन.
*******
आस्थाओं की झोली, जिसकी रिक्त होती है,
मानती नहीं उसकी, चेतना कोई बंधन.
*******
दहशतों के हाथों से, सामने निगाहों के,
जल के राख होता है, जीता-जागता मधुवन.
*******
जब भी याद करता हूँ, मैं वो सारी घटनाएं,
तैरता है आंखों में, होके अवतरित सावन.
*******
ईंट-पत्थरों ने भी, मेरे दुख को समझा है,
मेरा साथ देते हैं, ये उदास घर-आँगन.
**************

3 comments:

Dr. Amar Jyoti said...

'आंसुओं की पीड़ा को समझेंगे न दुःशासन।'
बहुत सार्थक। दुःशासन तो दण्ड की ही भाषा समझते हैं।

रंजना said...

Waah ! bahut bahut sundar abhivyakti..saarthak rachna.

"अर्श" said...

बहोत खूब लिखा है आपने वाह ...ढेरो बधाई ...


अर्श