Saturday, January 24, 2009

पथरा गया हो जैसे हवाओं का सब शरीर.

पथरा गया हो जैसे हवाओं का सब शरीर.
मुरझा रहा है मन की दिशाओं का सब शरीर.

*****
कपड़े की तर्ह रख दिया शायद निचोड़ कर,
हालात ने हमारी कलाओं का सब शरीर।

*****
बच्चे बिलख रहे हैं कि हैं भूख से निढाल,
हड्डी का एक ढांचा है माँओं का सब शरीर।

*****
अबकी फ़सल हुई भी तो आ धमके साहूकार,
घायल पड़ा है घर की दुआओं का सब शरीर।

*****
इन बस्तियों से गूंजती है हलकी-हलकी चीख,
बेजान सा है इनकी सदाओं का सब शरीर.
**************

1 comment:

संगीता पुरी said...

अच्‍छी रचना है....