Monday, January 12, 2009

अब ये आश्वासन न दो, परिचित हैं सब अच्छी तरह.

अब ये आश्वासन न दो, परिचित हैं सब अच्छी तरह.
तुमने अत्याचार ढाये, बे-सबब अच्छी तरह.
*******
आँधियों में पेड़ गिर जाते तो कोई दुख न था,
हमने आंखों से है देखा ये गज़ब अच्छी तरह.
*******
भुखमरी, दुख-दर्द, पीड़ा, आत्म हत्या से किसान,
कुछ बताओगे कि होंगे मुक्त कब अच्छी तरह.
*******
औपचारिकता के संबंधों में आस्वादन कहाँ,
मुझसे मिलना, प्यार जागे मन में जब अच्छी तरह.
*******
लक्ष्मी को पूजने का स्वाद चखने के लिए
दौड़ते हैं लोग जाने को अरब अच्छी तरह.
*******
हम तो गीदड़-भभकियों को भी समझ लेते थे सच,
वास्तविकता क्या है ये रौशन है अब अच्छी तरह.
**************

No comments: