Wednesday, November 12, 2008

यहाँ आती है अंगनाई से कच्चे आम की खुशबू.

यहाँ आती है अंगनाई से कच्चे आम की खुशबू.
सुबह की तर्ह मोहक हो गई है शाम की खुशबू.
*******
दुपहरी सर पे है सूरज भी है आवेश में शायद,
नहीं पगडंडियों में अब सुखद आयाम की खुशबू.
*******
मुझे लगता है कुछ दिन में ये पोखर सूख जायेगा,
कहीं यादों में रह जायेगी इसके नाम की खुशबू.
*******
रोपाई कर रही है धान के खेतों में वो लड़की,
छलक जाती है अल्ल्हड़पन से मय के जाम की खुशबू.
*******
ये स्मारक जो मेरे गाँव में है, ध्यान से देखो,
मिलेगी देश के स्वाधीनता संग्राम की खुशबू.
*******
यहीं सब तीर्थ स्थल हैं वो है इस तथ्य से परिचित,
कि उसके चित्त से आती है चारो धाम की खुशबू.
**************

4 comments:

seema gupta said...

यहीं सब तीर्थ स्थल हैं वो है इस तथ्य से परिचित,
कि उसके चित्त से आती है चारो धाम की खुशबू.
" sunder, dil ko sukun mila pdh kr"

Regards

विष्णु बैरागी said...

सुन्‍दर । अच्‍छी अभिव्‍यक्ति ।

Udan Tashtari said...

बहुत सुन्दर.

योगेन्द्र मौदगिल said...

रोपाई कर रही है धान के खेतों में वो लड़की,
छलक जाती है अल्ल्हड़पन से मय के जाम की खुशबू.
*******
ये स्मारक जो मेरे गाँव में है, ध्यान से देखो,
मिलेगी देश के स्वाधीनता संग्राम की खुशबू.
c
दोनों ही शेर बेहतरीन.....
आपको बधाई..........