Thursday, November 20, 2008

जुगनुओं सी चमकीली, छोटी-छोटी इच्छाएं.

जुगनुओं सी चमकीली, छोटी-छोटी इच्छाएं.
वह भी कब हुईं पूरी, आयीं ऐसी बाधाएं.
*******
गाँव की नदी मुझसे, पूछती थी घर मेरा,
मैं न कुछ बता पाया, जाने क्या थीं शंकाएं.
*******
अबके पाला पड़ने से, नष्ट हो गया सब कुछ,
अब अनाज के बदले, घर में हैं निराशाएं.
*******
उसने मुझसे पनघट पर, मेरा नाम पूछा था,
मैं जो थोड़ा घबराया, हंस पड़ी थीं बालाएं.
*******
दूर तक थीं खेतों में, धान की पकी फ़सलें,
यंत्रवत चलाती थीं, यौवनाएं हंसियाएं.
*******
मेरा नाम ले-ले कर, छेड़ते थे सब उसको,
उसको भी सुहाती थीं, रस भरी ये बर्खाएं.
*******
आज भी ये पगडण्डी, उसकी बाट तकती है,
जाने किस घड़ी, किस पल,सुख के लम्हे लौट आएं.
**************

1 comment:

Dr. Amar Jyoti said...

'आज भी ये पगडंडी …'
बहुत सुन्दर। उम्मीद ही हौसला देती है जीने का।