Friday, November 21, 2008

क्यों इस देश की मिटटी को चंदन का नाम न दें.

क्यों इस देश की मिटटी को चंदन का नाम न दें.
अमर शहीदों के सपनों को क्या अंजाम न दें ?
*******
सम्भव हो तो बाँट दें सबमें स्वर्णिम नवल प्रभात,
और किसी को ढलता दिन, कजलाई शाम न दें.
*******
हम वह नेता नहीं जो अपने सुख में जीते हैं,
चने बांटते फिरें, किसी को भी बादाम न दें.
*******
बंधुआ मजदूरों सा बरतें इस सरकार के लोग,
काम तो दुनिया भर का लें कोई इनआम न दें.
*******
होरी, धनियाँ, घीसू, माधव, हल्कू जैसे लोग,
लू, ठिठुरन, बदहाली झेलें, कुछ इल्ज़ाम न दें.
*******
यह कैसी मधुशाला जिसमें हर कोई प्यासा,
लुढ़काई जाये मदिरा पीने को जाम न दें.
**************

2 comments:

विनय said...

बहुत अच्छे, वाह!

"अर्श" said...

BAHOT HI SUNDAR LIKHA HIA AAPNE,DESHA BHAKTI KA BHAV BHAR DIYA AAPNE..

AAPKO DHERO BADHAI SAHAB...

REGARDS
ARSH