Monday, November 24, 2008

कुछ तहरीरें पढ़ कर ऐसा होता है आभास.

कुछ तहरीरें पढ़ कर ऐसा होता है आभास.
कहीं खिसकता जाता है इस धरती से विशवास.
*******
जाने कैसी विपदाओं को झेल रहे हैं लोग,
सुबहें मलिन-मलिन सी शामें बोझिल और उदास.
*******
कितने टुकड़े और अभी होने हैं पता नहीं,
पढता है मस्तिष्क हमारे मौन-मौन इतिहास.
*******
चेहरों पर अंकित है सबके एक इबारत साफ़,
सब बेचैन हैं शायद लेकर अपनी-अपनी प्यास.
*******
खो बैठा है हर कोई अपने मन का स्थैर्य,
पथरीले आँगन में जैसे उग आई हो घास.
*******
क्यों कबूतरों ने मुंडेर पर आना छोड़ दिया,
क्या विलुप्त हो गया कहीं अपनेपन का अहसास.
*************

2 comments:

निरन्तर - महेंद्र मिश्रा said...

जाने कैसी विपदाओं को झेल रहे हैं लोग,
सुबहें मलिन-मलिन सी शामें बोझिल और उदास
bahut badhiya . sahi kathan hai. dhanyawad.

परमजीत बाली said...

बहुत अच्छी रचना है।बधाई।

चेहरों पर अंकित है सबके एक इबारत साफ़,
सब बेचैन हैं शायद लेकर अपनी-अपनी प्यास.