Wednesday, November 12, 2008

जहाँ विचारों को अनुकूल हम नहीं पाते.

जहाँ विचारों को अनुकूल हम नहीं पाते.
वो बात कैसी भी हो, उसमें दम नहीं पाते.
*******
विचार के लिए आधार चाहिए कुछ तो,
ज़मीं हो खोखली, तो पाँव जम नहीं पाते.
*******
वो भावनाएं ही क्या, जिनमें हो न कोई नमी,
वो दिल भी दिल है कोई, जिसमें ग़म नहीं पाते.
*******
सुना है स्वस्थ दिशाओं में बढ़ने वालों के,
क़दम जो उठ गए, ख़तरों से थम नहीं पाते.
*******
वो बात करते हो क्यों जो समय के साथ नहीं,
न घन चलाओ, जो लोहा गरम नहीं पाते.
*******
कोई भी घटना घटित हो, प्रभावहीन सी है,
अब ऐसी बातों से बच्चे सहम नहीं पाते.
*******
वो लिख रहे हैं, नहीं लिखना चाहते जिसको,
हम अपने हाथों में अपना क़लम नहीं पाते.
**************

No comments: