Wednesday, July 30, 2008

तू मुझे इतने प्यार से मत देख / अली सरदार जाफ़री

तू मुझे इतने प्यार से मत देख
तेरी पलकों के नर्म साए में
धूप भी चांदनी सी लगती है
और मुझे कितनी दूर जाना है
रेत है गर्म, पाँव के छाले
यूँ दमकते हैं जैसे अंगारे
प्यार की ये नज़र रहे न रहे
कौन दश्ते-वफ़ा में जाता है
तेरे दिल को ख़बर रहे न रहे
तू मुझे इतने प्यार से मत देख
*****************

No comments: