Monday, July 14, 2008

इस्लाम की समझ / क्रमशः 1.4

इस्लाम दीन है, धर्म या मज़हब नहीं

इस्लाम को दीन के रूप में स्वीकार करके संतुष्ट हो जाना पर्याप्त नहीं है. उसपर जीवन के अंत तक कायम रहना अनिवार्य है. नबीश्री हज़रत इब्राहीम (अ.) एक प्रतिष्ठित और सम्मानित नबी हैं.श्रीप्रद कुरआन के प्रकाश में वैसे तो नबीश्री हज़रत आदम (अ.) के समय से ही इस्लाम दीन के रूप में प्रतिष्ठित हो चुका था किंतु यह श्रेय हज़रत इब्राहीम को प्राप्त है कि उन्होंने इसका खुल कर प्रचार-प्रसार किया. 'उनसे जब परम सत्ता ने कहा इस्लाम स्वीकार करो, तो उन्होंने निवेदन किया मैं सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड के 'रब' के समक्ष नत मस्तक हूँ' (इज़ क़ाल लहू रब्बुहू अस्लिम. क़ाल अस्लम्तु लिरब्बिल आलमीन 2/131). हज़रत इब्राहीम (अ.) का 'रब' को समर्पित होना तो नबी होने के रिश्ते से पहले से ही स्पष्ट था. किंतु नबी के लिए उसकी अभिव्यक्ति भी ज़रूरी थी. फिर इतना ही नहीं, वे और उनके बेटे हज़रत इस्माईल (अ.) काबे की दीवार ऊंची करते समय मन-ही-मन अल्लाह से दुआ करते हैं 'ऐ हमारे रब ! हमें अपने नज़दीक मुस्लिम स्वीकार कर और हमारी संतति में से भी एक समुदाय ऐसा रखना जो तेरे नज़दीक मुस्लिम हो.' ( रब्बना वज्'अल्ना मुस्लिमैनि ल'क व् मिन ज़ुर्रीयतिना उम्मतम-मुस्लिमतंल्लक. 2/128) साथ-ही-साथ श्रीप्रद कुरआन ने यह भी बताया "और इसी की वसीयत इब्राहीम (अ.) ने अपने बेटों और याकूब (अ.) ने अपने बेटों को की - ऐ बेटा अल्लाह ने तुम्हारे लिए यही दीन पसंद किया है. जब संसार से उठना तो मुसलमान रहकर ही. ( व् वस्सा बिहा इब्राहीमु बनीहि व् याकूबु, या बनैयि इन्नल्लाहस्तफ़ा लकुमुद्दीन फ़ला तमू तुन्न इल्ला व् अन्तुम मुस्लिमून. 2/132). अन्तिम आयत से स्पष्ट हो जाता है कि मुसलमान के लिए आख़िरी साँस तक दीन पर क़ायम रहना ज़रूरी है.
ध्यान देने की बात यह है कि इस्लाम को दीन के रूप में स्वीकार कर लेने के बाद प्रत्येक मुसलमान के लिए अनिवार्य हो जाता है कि वह अल्लाह के आदेशों और नबीश्री के पद-चिह्नों का आजीवन पालन करता रहे. श्रीप्रद कुरआन ने अनेक आयतों के माध्यम से इसका स्पष्टीकरण किया है. कहीं पर कहा गया 'अतीउल्लाह वर्रसूल' अर्थात अल्लाह और रसूल के आदेशों का पालन करो (3/32),या"वमइं युतिइल्लाह वरसूलहू युदखिलहु जन्नातिन"अर्थात जो व्यक्ति अल्लाह और उसके रसूल के आदेशों क पालन करेगा, अल्लाह उसे जन्नत में दाखिल करेगा (4/13) या "मइंयुतिइर्रसूल फ़क़द अताअल्लाह" अर्थात जिसने रसूल के आदेशों का पालन किया उसने अल्ल्लाह के आदेशों का पालन किया (4/80) इत्यादि. कहीं बताया गया "कुल इन्कुंतुम तुहिब्बूनल्लाह फ़त्तबिऊनी युहबिब्कुमुल्लाहू" अर्थात ऐ रसूल ! कह दो की यदि तुम अल्लाह से प्रेम करते हो तो मेरे पदचिह्नों पर चलो, अल्लाह तुम्हें दोस्त रखेगा.(3/31).
उपर्युक्त आयतों में कई बातें विचारणीय हैं. 1. अल्लाह की इताअत (आदेशों का पालन) करो और उसके रसूल की इताअत करो. 2. रसूल के आदेशों का पालन अल्लाह की इताअत से भिन्न नहीं है. 3. रसूल की इत्तिबा (पदचिह्नों पर चलना), अल्लाह से प्रेम का मूल-मन्त्र है.
पता यह चला की इताअत तो अल्लाह और उसके रसूल की करना है किंतु इत्तिबा केवल रसूल की करना है. कारण यह है कि अल्लाह के पद-चिह्न तो हैं नहीं जिनके पीछे चला जाय.दूसरी बात यह है कि रसूल के आदेश भले ही वह उनकी ज़बान से निकले हों वास्तव में अल्लाह के आदेश ही हैं. श्रीप्रद कुरआन ने तो कहा भी है "मा ज़ल्ल साहिबुकुम व् मा गवा व्'मा यंतिकु अनिल हवा इन हुव इल्ला वह्युन्यूहा" अर्थात ऐ मुसलमानों "तुम्हारा साहब (नबीश्री हज़रत मुहम्मद स.) न तो भटका हुआ है और न ही वह अपनी इच्छा से कुछ कहता है. वह कुछ भी नहीं बोलता बिना वही के इशारे के" (53/2-3). 'वही' अल्लाह के उन आदेशों को कहते हैं जो जिब्रील के माध्यम से नबीश्री (स) तक पहुंचते हैं.
अब यदि कोई व्यक्ति नबीश्री की अवज्ञा करता है तो सही अर्थों में वह अपने ईमान की कमजोरी व्यक्त करता है और उसकी अवज्ञा नबीश्री की ही नहीं अल्लाह की भी अवज्ञा है. आजकी बात जाने दीजिये. स्वयं नबीश्री के ज़माने में अनेक आदरणीय सहाबियों ने नबीश्री की अवज्ञा की. यह और बात है कि नबीश्री के स्वभाव में घृणा और क्रोध के लिए कोई स्थान नहीं था. नबीश्री के क्रोध की अभिव्यक्ति का बस इतना ही उल्लेख मिलता है कि ऐसे अवसरों पर उनका चेहरा बिल्कुल लाल हो जाता था. वे ज़बान से कुछ नहीं कहते थे. यह सच है कि नबीश्री के सभी सहाबी (साथ उठने-बैठने वाले) हमारे लिए आदरणीय हैं, किंतु यह भी सच है कि सभी सहाबी हमारे लिए अनुकरणीय नहीं हो सकते. सहाबियों की अवज्ञा के उदाहरण प्रामाणिक मुस्लिम इतिहास में भरे पड़े हैं, किंतु मैं यहाँ कुछ-एक उदाहरण ही देना चाहूँगा.
1. पहला उदाहरण 'उहद' की लड़ाई का है. इस लड़ाई में मक्के के मुशरिकों ने भरपूर तैयारी के साथ आक्रमण किया था जिसमें मुसलामानों ने उनका सामना उहद के मैदान में किया. इस युद्ध में इमाम अली (र.), हज़रत हम्ज़ा (र.), हज़रत मिक़दाद बिन असवद (र.), हज़रत जुबैर बिन अवाम और हज़रत अबू दज्जाना ने जब शत्रुओं को दूर तक खदेड़ दिया तो मुसलमान, शत्रुओं का छोड़ा हुआ माल लूटने में व्यस्त हो गए. तीरंदाजों का वह दस्ता जिसे पहाड़ के दर्रे पर नबीश्री (स.) ने इस आदेश के साथ तयनात किया था कि वे किसी भी स्थिति में उस स्थान को न छोडें, वे भी माल पर टूट पड़े. शत्रु सेना को अवसर मिल गया और उसने पीछे से मुसलमानों पर आक्रमण कर दिया. कुछ गिने चुने सहाबी तो इस अवसर पर भी डटे रहे किंतु अधिकतर सहाबी जान बचाकर, नबीश्री को अकेला छोड़कर भाग गए. नामी मुस्लिम योद्धाओं के शहीद हो जाने पर भी हज़रत अली (र.) अंत तक मोर्चे पर डटे रहे और उन्होंने नबीश्री की जो ज़ख्मी हो गए थे मरहम पट्टी भी की. प्रामाणिक मुस्लिम इतिहासकार तबरी ने लिखा है कि नबीश्री के " सहाबी भाग कर इधर उधर बिखर गए, कुछ मदीने में चले गए और कुछ पहाड़ की चट्टान पर जाकर टिक गए. नबीश्री ऊंची आवाज़ से पुकारने लगे लोगों को बुलाते हुए कि "इलैय इबादिल्लाह, इलैय इबादिल्लाह"ऐ अल्लाह के बन्दों ! मेरी ओर आओ, मेरी ओर, किंतु किसी ने नहीं सुना" (तबरी भाग 3, पृ0 20 ). श्रीप्रद कुरआन ने इस घटना को सूरः आलि इमरान की 152वीं आयत में इस प्रकार बयान किया है- "याद करो जब तुम भागे चले जा रहे थे. किसी की ओर पलटकर देखने का होश भी तुम में नहीं था और तुम्हारा रसूल तुम्हारे पीछे तुमको पुकार रहा था."
मुस्लिम इतिहासकारों ने लड़ाई से नबीश्री की अवज्ञा करते हुए भागने वाले सहाबियों की सूची नहीं दी है. किंतु कुछ प्रमुख सहाबियों के नाम गिनाये अवश्य हैं. हाकिम नेशापूरी ने मुस्तदरक में (भाग 3, पृ0 27) और शाह वलीउल्लाह दिहल्वी ने कुर्तुल ऐनैन में (पृ0 14) लिखा है कि "जब उहद की लड़ाई में प्रतिष्ठित रसूल के सहाबी उनको अकेला छोड़कर इधर-उधर बिखर गए तो हज़रत आयशा (र.) के मतानुसार हज़रत अबूबकर (र.) ने फरमाया कि उनमें से सबसे पहले मैं रसूलल्लाह की खिदमत में वापस आया." तफसीरे-कबीर में (मिस्र, भाग 3, पृ0 74) अल्लामा फखरुद्दीन राज़ी और तारीखे-कामिल में (मिस्र, भाग 2, ज़ातुत्तःरीर, पृ0 60) इब्ने-असीर जज़री लिखते हैं "भागने वालों में हज़रत उमर (र.) भी थे किंतु वह बहुत दूर नहीं गए. बल्कि पहाडी पर ही सुरक्षित स्थान पर रुके रहे. हाँ हज़रत उस्मान (स.) जो साद और अकबा के साथ दूर तक भाग गए थे, तीन दिन बाद तशरीफ़ लाये." अब इससे क्या अन्तर पड़ता है कि कौन पहले लौटा और कौन बाद में. अल्लाह और उसके रसूल की अवज्ञा तो सभी ने की.
इस प्रसंग में प्रख्यात मुस्लिम विद्वान् हज़रत अब्दुलहक़ मुहद्दिस दिहल्वी ने मदारिजुन्नबूवः में (भाग 2, पृ0 267) एक और विचारणीय बात लिखी है. वे लिखते हैं "इस अवसर पर नबीश्री ने हज़रत अली (र.) से प्रश्न किया तुम भी दूसरों की तरह क्यों नहीं चले गए ? हज़रत अली (र.) ने उत्तर में कहा क्या मैं ईमान लाने के बाद कुफ्र की तरफ़ पलट जाता." यह बात महत्वपूर्ण इसलिए है कि नबीश्री (स.) हज़रत अली (र.) की बात सुन कर चुप रह गए. नबीश्री (स.) का किसी बात पर सामान्य स्थिति बनाए रखते हुए चुप रहना, मुसलमानों की दृष्टि में तथ्यतः उस बात की स्वीकृति है.
2. दूसरा उदाहरण हुदैबिया की संधि का है. सन 06 हिजरी/ 628 ई0 में नबीश्री 1400 सहाबियों के साथ हज करने के विचार से मक्के के लिए निकले. वहाँ के मुशरिकों द्बारा अवरोध उत्पन्न किए जाने और खून-खराबे की संभावनाएं होने की सूचना पाकर नबीश्री ने मक्के से नौ मील पहले हुदैबिया के स्थान पर पड़ाव डाला. नबीश्री ने हज़रत उमर (र.) को मक्का जाकर यह बताने का आदेश दिया कि हम लोग कोई लड़ाई-झगडा नहीं चाहते. केवल हज की नीयत से निकले हैं और हज करके तत्काल वापस लौट जायेंगे. हज़रत उमर (र.) ने जाने में संकोच व्यक्त किया और हज़रत उस्मान (र.) को भेजने का सुझाव इस तर्क के साथ दिया कि मक्के के कुरैश उन्हें प्रिय रखते हैं और उनके कबीले वाले भी मक्के में अधिक हैं. हज़रत उस्मान (र.) मक्के गए और जब उन्हें लौटने में विलंब हुआ तो तरह-तरह की शंकाएँ व्यक्त की जाने लगीं. नबीश्री ने (जिन्हें उहद में मुसलमानों द्वारा मैदान छोड़ कर भाग जाने का अनुभव हो चुका था), अपने साथियों को एक वृक्ष के नीचे एकत्र करके उनसे युद्ध होने की स्थिति में जान बचाकर न भागने का वचन लिया.यह सूचना संभवतः मक्के वालों तक पहुँच गई. फलस्वरूप मक्के के कुरैश ने सुहैल बिन अम्र को इस आशय से भेजा कि हम भी युद्ध करने के पक्ष में नहीं हैं. आप हमारी समझौते की शर्तें मान लीजिये और इस वर्ष बिना हज किए लौट जाइए, अगले वर्ष आप हज कर सकते हैं किंतु तीन दिन से अधिक मक्के में नहीं रुकेंगे. हमारा कोई साथी यदि मदीने चला जाय तो आपको उसे लौटाना होगा,किंतु मदीने से यदि कोई मुस्लमान मक्के आता है तो हम उसे वापस नहीं लौटायेंगे. नबीश्री (स.)ने सारी शर्तें स्वीकार कर लीं. नबीश्री (स.) के सहाबियों ने, विशेष रूप से हज़रत उमर (र.) ने इस में मुसलामानों के अपमान की गंध महसूस की और नबीश्री (स.) से सवाल-जवाब भी किया (सहीह बुखारी, भाग 2, पृ0 141). मदारिजुन्नुबूवः में अब्दुलहक़ मुहद्दिस दिहल्वी ने (भाग 2, प्री0 436) लिखा है कि फरमाया हज़रत उमर (र.) ने कि हमें नबूवत पर जैसा संदेह आज हुआ, इससे पहले कभी नहीं हुआ.इतना ही नहीं संधि के बाद नबीश्री ने मुसलामानों को कुर्बानी करने और सर मुंडवाने का तीन-तीन बार आदेश दिया किंतु किसी ने हिलने का नाम तक नहीं लिया. मुसलमानों को इस प्रकार अवज्ञा करते देखकर नबीश्री को बहुत दुःख हुआ.
3. तीसरा उदाहरण उस समय का है जब अन्तिम हज से लौटकर नबीश्री (स.) ने अपने आजाद किए हुए गुलाम जैद बिन हारिस के बेटे ओसामा के नेतृत्त्व में हज़रत अली (र.) को छोड़ कर अन्य सभी सहाबियों को रूम की मुहिम में जाने का आदेश दिया. शेख अब्दुल हक मुहद्दिस दिहल्वी इस सम्बन्ध में लिखते हैं "हज़रत (नाबीश्री स.) की तरफ़ से आदेश हुआ कि बड़े-बड़े मुहाजिर और अंसार जैसे अबूबक्र सिद्दीक, उमर फारूक, उस्मान ज़ुल्क़र्नैन,साद बिन अबी वक्कास और अबू उबैदा बिन जर्राह इत्यादि सब इस सेना में ओसामा के साथ जाएँ, अली-ए-मुर्तुजा को छोड़कर, जिन्हें उनके साथ नहीं भेजा. यह बात कुछ लोगों को बहुत बुरी लगी कि एक गुलाम को मुहाजिर व् अंसार का सरदार बना दिया और उन लोगों के समूह में इसपर टीका-टिप्पणी होने लगी.हज़रत (नबीश्री स.) को जब इसकी सूचना मिली तो वे अत्यधिक दुखी हुए. मेंबर पर जाकर उन्होंने मुसलमानों से कहा 'ऐ लोगो ! यह क्या है कि मेरे बनाये हुए सेना के अमीर (सरदार) ओसामा का तुम सब विरोध कर रहे हो. इसी प्रकार उनके पिता के नेतृत्त्व का भी तुम लोगों ने विरोध किया था. खुदा की क़सम यही सेना की सरदारी का पद पाने के योग्य हैं और इनके पिता भी सरदारी के लिए योग्य थे." (मदारिजुन्नुबूवः, भाग 2, पृ0 766).
4. चौथा उदाहरण नबीश्री (स.) के जीवन के अन्तिम दिनों का है जब उन्होंने बीमारी की अवस्था में कलम और दावात माँगा ताकि मुसलामानों के लिए ऐसी वसीयत लिख दें कि भविष्य में मुसलमान पथ भ्रष्ट न हों. किंतु उपस्थित मुसलामानों ने नबीश्री (स.) के आदेश का पालन नहीं किया. इस घटना का उल्लेख बुखारी शरीफ, सहीह मुस्लिम, मसनद अहमद इब्ने हम्बल के अतिरिक्त तबरानी और शहरिस्तानी के यहाँ भी है. इनमें से कुछ पुस्तकों में यह भी बताया गया है कि हज़रत उमर (र.) ने इस अवसर पर यह भी कहा कि नबीश्री (स.) बीमारी की हालत में हिज़ियान बक रहे हैं. हमें किसी वसीयत की जरूरत नहीं है. हमारे लिए अल्लाह की किताब काफ़ी है.
उपर्युक्त उदाहरणों से इतना स्पष्ट हो जाता है कि नबीश्री के अनेक ऐसे सहाबी जिन्हें मुस्लिम जगत प्रतिष्ठित, सम्मानित, आदर्श और अनुकरणीय समझता है, नबीश्री के आदेशों की अवज्ञा के भागीदार थे. श्रीप्रद कुरान ने कहीं भी यह नहीं कहा है कि दो-एक बार की अवज्ञा क्षम्य है. श्रीप्रद कुरान के अनुसार अवज्ञा करने वालों के सारे कर्म अकारथ चले जाते हैं और वे न्याय के दिन पछताते हैं. किंतु यह केवल एक पहलू है. देखने की बात यह है कि ऐसा क्यों किया गया. मुझे अपने अध्ययन से पर्याप्त सोच-विचार के बाद ऐसा लगता है कि नबीश्री के अनेक सहाबियों ने इस्लाम को दीन के रूप में अपने राजनीतिक उद्देश्यों से स्वीकार किया था. उनके लिए दीन की आत्मा इश्के-इलाही या इश्के-रसूल नहीं थी. उनके लिए यह भी चिंता का विषय नहीं था कि वे तक़वा (प्रत्येक छोटे-बड़े पाप से दूर रहना) पर कायम रहें. आगे चलकर शाम और बग़दाद के अनेक खलीफाओं ने जो रास्ता अख्तियार किया,उससे सभी परिचित हैं. आज अधिकतर मुसलामानों को विरासत में यही आदर्श मिले हैं. फलस्वरूप इस्लाम की पहचान आज दूसरे धर्मों के लोग,श्रीप्रद कुरआन, नबीश्री का सम्मानित चरित्र, उनकी संतानों के चरित्र तथा सूफियों और वलियों के चरित्र के प्रकाश में नहीं कर रहे हैं. यह अतीत की बातें हो चुकी हैं. आज इस्लाम की पहचान उन धर्माचार्यों के माध्यम से हो रही है जो आए दिन भांत-भांत के फतवे दे रहे हैं.जिनका लक्ष्य इस्लामी सल्तनत और इस्लामी हुकूमत स्थापित करना है. इन धर्माचार्यों की मुस्लिम समुदाय के चरित्र निर्माण में कोई रूचि नहीं है. मेरी दृष्टि में आजके मुस्लिम धर्माचार्यों का जो लक्ष्य है वो किसी नबी रसूल या इमाम का लक्ष्य नहीं था.
****************************क्रमशः

No comments: