Wednesday, June 18, 2008

रसलीन और बिहारी के दोहे / काव्यानुवाद

अमी, हलाहल, मद भरे, स्वेत, श्याम, रतनार
जियत, मरत, झुकि-झुकि परत, जिहि चितवत इक बार
आबे-हयात, ज़हरे-हलाहल, शराबे-नाब
छलके है चश्मे-सुर्खो-सियाहो-सफ़ेद से
जी उट्ठे, जाँ हलाक करे, खो दे अक़्लो-होश
जिसकी तरफ़ वो शोख़, नज़र भरके देख ले
************
कहत, नटत, रीझत,खिजत, हिलत-मिळत, लजियात
भरे भौन में करत हैं , नयनन ही तें बात
असरार, ज़िद, फ़रेफ्त्गी , खफ़्गिए-कमाल
इजहारे-इश्क, शर्मो-हया का मज़ाहिरा
खुर्दो-कलां हैं घर में सभी इसके बावजूद
जारी है गुफ्तुगू का निगाहों से सिलसिला
************
; शैलेश ज़ैदी

No comments: