Sunday, April 25, 2010

ब्रज भाषा और अवधी का तिरस्कार क्यों

ब्रज भाषा और अवधी का तिरस्कार क्यों
अभी कल तक, यानी देवनागरी आन्दोलन से पहले तक, ब्रज और अवधी भाषाएं अपने उच्च स्तरीय साहित्य के लिए समूचे देश में एक विशेष पहचान रखती थीं।उस समय तक बंगला, मराठी, गुजराती,उड़िया आदि भाषाओं के पास इतनी पूंजी भी नहीं थी कि इसके आसपास ठहर सकें।भौगोलिक दृष्टि से ये दोनों ही उत्तर प्रदेश की भाषाएं थीं।किन्तु ब्रज भाषा की स्थिति अवधी से थोड़ा भिन्न थी।यह एक अन्तर प्रान्तीय स्तर की भाषा बन चुकी थी। उर्दू की स्थिति भले ही राजभाषा की रही हो और मीर, ग़ालिब, ज़ौक़, सौदा, मोमिन जैसे शायर भले ही उसे संवारने में लगे हों, ब्रज भाषा गुरु नानक, कबीर, बाबा फ़रीद, सूर, तुलसी,फ़ैज़ी, बीरबल,बिहारी, रसलीन, घनानन्द, अकबर, जहाँगीर, औरंगज़ेब, के घरों और दरबारों से गुज़रती हुई जनमानस के दिलों में प्रवेष कर चुकी थी।मन्दिरों से लेकर ख़ानक़ाहों तक और भजन और ठुमरी से लेकर सूफ़ियों की समा'अ की महफ़िलों तक इसी के स्वर गूंजते दिखाई देते थे।सुदामा चरित से लेकर कर्बल गाथा तक इसकी वैचारिक परिधियों का विस्तार था।संकीर्णताएं इसके शरीर को छू तक नहीं पाती थीं।मुहर्रम के दिनों में ब्रज भाषा के मरसिए [दाहा] और नौहे मातमी फ़िज़ा को भिगो कर आंसुओं से तर कर देते थे।ब्रज भाषा की आधार शिला ही प्रेम और मेल-मिलाप की थी।
देवनागरी आन्दोलन का प्रारंभ हुआ तो उर्दू लिपि के विरोध से।किन्तु बगाली और मराठी ब्राह्मणों का सक्रिय सहयोग पाकर यह उर्दू भाषा विरोधी बन गया।उर्दू को मुसलमानों की भाषा बताकर हिन्दुओं को उससे दूर किया गया। ठीक है इस आन्दोलन का यह लाभ अवश्य हुआ कि उर्दू बेघर हो गयी और हिन्दी के नाम पर तथाकथित खड़ी बोली का एक नया रूप खड़ा हो गया। पर इस आन्दोलन से जितनी क्षति ब्रज भाषा को पहुंची, उर्दू को नहीं पहुंची।ब्रज की स्थिति यह हो गयी कि "इस घर को आग लग गयी घर के चिराग़ से"।बिचारी भाषा के पद से हटा दी गयी और बोलियों में गिनी जाने लगी।जैसे उसका कोई साहित्य कभी रहा ही न हो। ब्रज के कवियों ने कविताएं लिखना बन्द कर दी।भारतेन्दु जी चिल्लाते ही रहे "निज भाषा उन्नति अहै सब उन्नति को मूल",किन्तु ब्रज भाषा निजभाषा न बन सकी।खड़ी बोली के नाम पर खड़ी संवैधानिक हिन्दी को ब्रज भाषा के विकास में खतरा दिखायी दिया।कंकड़-पत्थर और चूने-गारे की इमारतें तक ऐतिहासिक धरोहर कहलाती हैं और उनकी सुरक्षा पर सरकार करोड़ों रूपये ख़र्च करती है।पर वह भाषा जो हमारे संस्कारों के बीच से जन्मी और विकसित हुई थी, हमारे ही बीच अजनबी होती जा रही है।
दिल्ली में ब्रज भाषा अकादमी बनाने की बात आयी तो कृष्णदत्त पालीवाल जैसे लोग उसके विरोध में ख़ून-पसीना एक करके लंबे-लंबे लेख लिखने बैठ गये।उनका विचार है कि ऐसी अकादमियां यदि बन गयीं तो 'हिन्दी नहीं बचेगी।'उन्हें इस विचार में ही 'अलगाव की राजनीति' दिखती है।उर्दू अकादमियाँ जब बनायी जा रही थीं उस समय भी ऐसे ही बल्कि इस से भी अधिक ख़तरनाक विचार व्यक्त किये गये थे। पर इतिहास ने साबित कर दिया कि इस से हिन्दी को कोई ख़तरा नहीं पहुंचा। उसके शरीर पर खरोच तक नहीं आयी। दिल्ली में भोजपुरी-मैथिली अकादमी भी बनी और सुचारु रूप से चल भी रही है। हिन्दी का सहयोग भी उसे मिल रहा है। क्या आफ़त आ गयी उसके बनने से।विश्वविद्यालयों की स्थिति अब यह है कि प्राकृत और अपभ्रंश पढाने वाले पहले ही विलुप्त हो चुके थे,ब्रज और अवधी पढाने वाले भी अब नहीं मिलते। सरलीकरण की प्रवृत्ति ने ऐसा ज़ोर पकड़ा है कि जिसे देखिए कहानी और उपन्यास पर शोध-प्रबंध लिख रहा है।ज़ाहिर है कि इस लेखन में प्रबंध ही प्रबंध है, शोध की तो कोई भूमिका ही नहीं है।सूर तुलसी,मुल्ला दाऊद, मलिक मुहम्मद, रहीम रसखान को हम क्यों खो देना चाहते हैं। क्या इसी में हिन्दी का भला है। एक रेखा को मिटा कर दूसरी को बड़ी साबित करना क्या मूर्खता नहीं है।ब्रज और अवधी का साहित्य हमारे लिए किसी ताजमहल से कम महत्त्व्पूर्ण नहीं है।बल्कि यह भाषाएं हमारे सांस्कृतिक क़िले हैं जिनपर आपसी सौहार्द का झण्डा फहराकर हमें गौरवान्वित होना चाहिए।
**********

3 comments:

शिक्षामित्र said...

कई भाषाएं अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही हैं। जिसका जितना ज़ोर,उसकी बात माने जाने की गुंजाईश उतनी ज्यादा प्रतीत होती है। हमारी शुभकामनाएं लीजिए।

घनश्याम मौर्य said...

अच्छा साहित्य किसी भी भाशा का हो, उसे बदावा देना चाहिये.

अविनाश वाचस्पति said...

आज दिनांक 4 मई 2010 के दैनिक जनसत्‍ता के संपादकीय पेज 6 पर समांतर स्‍तंभ में अजनबी होती भाषा शीर्षक से यह पोस्‍ट प्रकाशित हुई है, बधाई।