Monday, February 8, 2010

फ़िज़ा शिकन-ब-जबीं है वहाँ न जाइयेगा

फ़िज़ा शिकन-ब-जबीं है वहाँ न जाइयेगा।

वहाँ ख़ुलूस नहीं है वहाँ न जाइयेगा ॥

बिछाए बैठे हैं बारूद लोग राहों में,

फ़साद ज़ेरे-ज़मीं है वहाँ न जाइयेगा॥

फ़सुर्दगी के बदन पर है बूए-गुल की नक़ाब,

फ़रेब तख़्त-नशीं है वहाँ न जाइयेगा॥

हरेक सम्त मिलेगा सुलगती राख का ढेर,

न अब मकाँ न मकीं है वहाँ न जाइयेगा॥

वो मैकदा है वहाँ रस्मे-इश्क़ का है चलन,

वहाँ न धर्म न दीं है वहाँ न जाइयेगा॥

*************

फ़िज़ा=वतावरण, शिकन-ब-जबीं=माथे पर सिल्वटें पड़ना, ख़ुलूस=आत्मीयता, फ़साद=उपद्रव, ज़ेरे-ज़मीं=ज़मीन के नीचे, फ़सुर्दगी=मलिनता, बूए-गुल=फूल की सुगंध, नक़ाब=आवरण, फ़रेब=धोका, तख़्त-नशीं=सिंहासन पर बैठा हुआ, मकीं=मकान में रहने वाला,मैकदा=मदिरालय, रस्मे-इश्क़=प्रेम-सहिता,दीं=एकेश्वरवाद में आस्था।

1 comment:

निर्मला कपिला said...

लाजवाब अगर उर्दू के शब्दों का अर्थ भी देते तो बहुत अच्छा था आभार्