Sunday, February 21, 2010

शाम से पहले : ज़ैदी जाफ़र रज़ा का ग़ज़ल-सग्रह / डा0 परवेज़ फ़ातिमा

शाम से पहले : ज़ैदी जाफ़र रज़ा का ग़ज़ल-सग्रह
डा0 परवेज़ फ़ातिमा
ज़ैदी जाफ़र रज़ा आज से पैंतीस-चालीस वर्ष पूर्व उर्दू शायरों में अपनी एक विशेष पहचान रखते थे। प्रो0 एह्तिशाम हुसैन जैसे प्रख्यात उर्दू आलोचक ने साहित्य अकादमी की पत्रिका इन्डियन लिटरेचर में उनके काव्य-सग्रह "चाँद के पत्थर" को केन्द्र में रखक्रर 1971 में एक महत्वपूर्ण आलेख भी लिखा था।प्रो0 करामत अली ने अपनी आलोचना पुस्तक "इज़ाफ़ी तनक़ीद" में ज़ैदी साहब की शायरी को समकालीन उर्दू शायरी की पहचान के रूप में देखा। उर्दू की पत्रिकाएं "तहरीक", "शायर", "सुबहे नौ""अवराक़" शब्ख़ून आदि उनकी रचनाएं सम्मान पूर्वक छापती थीं।किन्तु ज़ैदी जाफ़र रज़ा का कहना है कि उर्दू लेखन उनके कैरियर में बाधक था। हिन्दी में एम0ए0 पी-एच0डी0 करने और कई पुस्तकों के लेखक होने के बाद भी तत्कालीन विभागाधयक्ष ने उनकी तुलना में बिना पी-एच0डी, केवल द्वितीय श्रेणी में एम0ए0 करने वालों की नियुक्तियां कर लीं और ज़ैदी साहब नौकरी में बहुत पीछे हो गये।कहा जाता था कि वे उर्दू से विशेष मोह रखते हैं और उर्दू के लेखक हैं।उस ज़माने में हिन्दी वाले उर्दू के प्रति आजकी तरह स्नेह भाव नहीं रखते थ।हर स्तर पर उर्दू का विरोध ही उनका लक्ष्य था।
ज़ैदी जाफ़र रज़ा जो हिन्दी लेखन में शैलेश ज़ैदी के नाम से जाने जाते हैं, हिन्दुस्तानी त्रैमासिक, सम्मेलान पत्रिका, नागरी प्रचारिणी पत्रिका आदि में अपने उच्च-स्तरीय आलेखों के कारण 1963 से निरन्तर छप रहे थे। अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय के हिन्दी विभाग में अधिकतर अधयापकों की लेखन में कोई रुचि नहीं थी। कविता में रवीन्द्र भरमर की पहचान ज़रूर थी और शोध तथा आलोचना में प्रो0 कैलाश्चन्द्र भाटिया तथा डा0 अम्बाप्रसाद सुमान प्रख्यात थे। ज़ैदी साहब के शोधपूर्ण आलेखों से इन महानुभावों के अतिरिक्त किसी को प्रसन्नता नहीं होती थ॥और ये लोग मात्र प्रवक्ता थे , इसलिए विभागीय प्रशासन में इनकी विशेष भूमिका नहीं थी।भाटिया जी ने अलीगढ छोड़ दिया और पद तथा लेखन दोनों ही दृष्टियों से सम्मान प्राप्त करने में सफल हुए। अम्बाप्रसाद सुमन रीडर पद से आगे नहीं बढ सके और सेवामुक्त हो गये। 1966 में डा0 ज़ैदी ने यूजीसी की पोस्ट डाक्टरल फ़ेलोशिप के लिए जब अप्लाई किया तो तत्कालीन विभागाधयक्ष प्रो0 हरबंशलाल शर्मा ने ये कहक्र्र उनका फ़ार्म बिना हस्ताक्षर किये मेज़ से फेंक दिया कि यह फ़ेलोशिप आजतक अलीगढ में किसी को मिली है जो तुम्हें मिल जायेगी। इसके लिए चार फ़र्स्ट क्लास अपेक्षित हैं और तुम्हारे पास एक भी नहीं हैं ।ड़ा0 ज़ैदी से गुस्ताख़ी ये हुई कि उन्होंने अतिरिक्त निवेदन, याचना या आग्रह करने के बजाय उत्तर यह दिया की इसमें "आर स्टैन्डर्ड पब्लिश्ड वर्क " भी तो माँगा गया है।बहर हाल बिना विभागाधयक्ष के हस्ताक्षए के फ़ार्म डा0 ज़ैदी ने रजिस्टरार के हस्ताक्षरों से यूजीसी भिजवा दिया। इस फ़ेलोशिप के लिए डा0 नामवर सिंह ने भी उसी वर्ष आवेदन पत्र दिया था।किन्तु यूजीसी में वामपथ का वर्चस्व न होने के कारण यह फ़ेलोशिप शैलेश ज़ैदी को मिल गयी। धयान रहे कि पूरे भारत में यह फ़ेलोशिप विज्ञान, समाजशास्त्र और मानविकी में केवल तेईस लोगों को दी जाती थी। इतना सब होने पर भी 1969 से पूर्व डा0 ज़ैदी की नियुक्ति प्रवक्ता के रूप में न हो सकी। रोचक बात ये है कि फ़ेलो के रूप में डा0 ज़ैदी ने जिन छात्रों को 1962 से पढाया था, वे तक अधयापक हो चुके थे।
1971 में जब ज़ैदी साहब का उर्दू काव्य-सग्रह "चाँद के पत्थर" प्रकाशित हुआ तो उसकी प्रतिक्रिया डा0 ज़ैदी ने हिन्दी विभाग में बहुत अच्छी नहीं महसूस की।फलस्वरूप ज़ैदी साहब ने उर्दू में अपनी कोई चीज़ छपने के लिए भेजना बन्द कर दिया और वे उर्दू जगत से पूरी तरह कट गये। अड़तीस वर्षों के अन्तराल के बाद ज़ैदी जाफ़र रज़ा ने फिर से उर्दू पत्र-पत्रिकाओं में लिखना शुरू कर दिया है। उनका ग़ज़ल सग्रह "शाम से पहले" इसी की एक कड़ी है।यह संग्रह 2009 के अन्त में एजुकेशनल पब्लिशिंग हाउस, दिल्ली से प्रकाशित हुआ है। ज़ैदी साहब का मानना है कि हर भाषा के अपने संस्कार होते हैं, उर्दू के सस्कार अस्सलाम अलैकुम या राम-राम या प्रणाम के नहीं हैं, उर्दू के संस्कार आदाब अर्ज़ के हैं। यानी विशुद्ध गंगा-जमुनी संस्कार हैं।यह भाषा धर्म से नहीं, तहज़ीब से नियंत्रित होती है। और यह तहज़ीब एक दिन में नहीं बनती। धर्म के हस्तक्षेप से भाषा में कृत्रिमता आती है और उसकी सांस्कृतिक ऊर्जा धूमिल पड़ जाती है।ज़ैदी जाफ़र रज़ा की ग़ज़लें उर्दू संस्कार की ग़ज़लें हैं जिसका चेहरा ही नहीं आत्मा तक धर्म निर्पेक्ष है। ये ग़ज़लें कभी संवाद की स्थितियाँ बनाती हैं तो कभी समाज की ज़मीनी सच्चाइयों में गहरे उतर कर उनकी नब्ज़ पर धड़कती ज़िन्दगी को समेटने की कोशिश करती हैं। ये ग़ज़लें चूंकि मैंने ही संकलित की हैं और विगत अड़तीस वर्षों में ये कब कब कही गयीं यह निश्चय न हो पाने के कारण इन्हें उर्दू के अकारादिक क्रम में रखा गया है।आरा विश्वविद्यालय से शैलेष ज़ैदी के रचना संसार पर पी-एच0 डी0 करने के दौरान यह सब कार्य मैं ने किया था। सग्रह की पहली ही ग़ज़ल अन्तरात्मा में होने वाले संवाद को मुखर और गतिशील सप्रेष्णात्मक ऊर्जा से भर देती है। यह "सेल्फ़" और "नाट-सेल्फ़" के टकराव की स्थिति है। कवि सर्वत्र स्व से मुक्त रहता है।कुछ शेर द्रष्टव्य हैं
कहा था उसने हक़-गोई से अपनी बाज़ आ जाओ,
कहा था मैने मैं पत्थर को हीरा मान लूं कैसे॥
कहा उसने किसी मौक़े पे झुक जाना भी पड़ता है,
कहा मैं ने के सच्चाई को देखूं सर-नुगूं कैसे॥
कहा उसने के चुप रह जाओ कोई कुछ भी कहता हो,
कहा मैं ने के मैं इन्सान हूं पत्थर बनूं कैसे॥
कहा उसने के तुम दुश्मन बना लेते हो दुनिया को,
कहा मैं ने के दुनिया की तरह मैं भी चलूं कैसे॥
संवाद की यह स्थिति जब वैयक्तिक चरित्र का विस्तार करती है और सामाजिक परिवेश को उसमें समाहित कर देती है तो दायित्त्व का फलक आयाम और दिशाएं सहज ही तय कर लेता है।प्रस्तुत हैं चन्द अशआर-
कहा मैं ने वफ़ाओं का तुम्हारी क्या भरोसा है,
कहा उसने के सब कुछ रख के मुझपर देखते क्यों हो॥
कहा मैं ने किसानों की तबाही से है क्या हासिल,
कहा उसने तबाही का ये मंज़र देखते क्यों हो॥
कहा मैं ने के मेरे गाँव में सब फ़ाक़ा करते हैं,
कहा उसने के तुम उजड़े हुए घर देखते क्यों हो॥
कहा मैं ने त अल्लुक़ तुम से रख कर जाँ को ख़तरा है,
कहा उसने के नादानों के तेवर देखते क्यों हो॥
कहा मैं ने के लगता है कोई तूफ़ान आयेगा,
कहा उसने के तुम खिड़की से बाहर देखते क्यओं हो॥
उर्द के प्रबुद्ध आलोचक प्रो0 शाफ़े क़िदवाई का विचार है के ज़ैदी जाफ़र रज़ा ने विशेष धयान में रखे गये एह्सासों और अभिव्यक्तियों के सुपरिचित अनुभवों को एक ठोस धरातल प्रदान किया है। उनकी ग़ज़ल का सत इकहरे खयाल से नहीं उठा है, उनके लिए जगत का प्रत्येक दृष्य एक ही समय में आवरण में भी है और आवरण से मुक्त भी।उनकी चेतना उस शून्य में भी विचरण करना जानती है जो दैहिक जगत से परे है-
मेरे श ऊर को है नक़्शे-ला-मकाँ की तलाश,
जहाँ न अरज़ो-समाँ हैं न जिस्मे-ख़ाकी है॥
ज़ैदी जाफ़र रज़ा हरे-भरे पेड़ को सत्य और पारलौकिक ज्ञान का प्रतीक मानते हैं जिसने हज़रत मूसा के जीवन की दिशा और लक्ष्य को निर्धारित कर दिया।इस्के सान्निधय से अज्ञान का परदा हट जाता है-
सरसब्ज़ पत्तियों से निकलती हो जिसके आग,
मुद्दत से एक ऐसे शजर की तलाश है॥
अथवा
दिखलाई दी शजर की हरी पत्तियों में आग,
जब गुफ़्तुगू हुई तो जो परदा था हट गया॥
प्रो0 सैयद अमीन अशरफ़ ज़ैदी जाफ़र रज़ा की ग़ज़लों में एक ऐसा जादू देखते हैं जो पाठक की चेतना को वैचारिकता के लिए आमंत्रित करता है,मन को छूता हैं और दृष्टि को शीतलता प्रदान करता है।अधिक विस्तार में न जाकर मैं इस लेख को यहीं समाप्त करती हूं। ब्लाग जगत के पाठक प्रबुद्ध भी हैं और साहित्यिक प्रतिमानों से सपन्न भी। ज़ैदी जाफ़र रज़ की ग़ज़लें वो इस ब्लाग पर पढते ही रहते हैं।इसलिए उनके निर्णयों पर कुछ और थोपना समीचीन न होगा।
****************

1 comment:

"अर्श" said...

ज़ैदी साहब को पहली बार देखा भी और उंके बारे में पढ़ा भी बहुत अच्छा लगा ... बहुत बहुत मुबारकवाद इस मुक़द्दस मौके के लिए ...


अर्श