Saturday, May 10, 2008

एक जापानी कविता

परिचय
हिरोशी कावासाकी (1930-2004) का जन्म टोकियो में हुआ. उन्होंने बड़ी संख्या में कविताएँ, कहानियाँ, निबंध, रेडियो नाटक इत्यादि लिखे. उनकी अधिकांश कविताएं प्रकृति के प्रति उनके गहरे जुडाव को दर्शाती हैं. 1953 में उन्होंने नोरिको इबारागी के साथ मिलकर 'काई' (KAI) नामक एक कविता-पत्रिका निकाली. इस पत्रिका से शुन्तारो तनिकावा और मकातो ऊका सहित अनेक कवि जुड़ते चले गए. अंग्रेज़ी भाषा में हिरोशी कावासाकी के अनेक काव्य-संग्रह उपलब्ध हैं.
[ 1 ] सुबह / हिरोशी कावासाकी
सुबह के प्रकाश में
दौड़ रही है एक लड़की मेरी ओर
उसके शानदार केश
सूर्य के प्रकाश में घुल कर
चौंधिया रहे हैं मुझे.

उसके हाथ, उसके जूते, उसकी स्कर्ट, उसका शरीर
सभी घुल गए हैं सूर्य के प्रकाश में
और हो गए हैं पारदर्शी
जैसे कि वह लड़की जो
दौड़ रही है मेरी ओर.

दाखिल हो जाता है सूर्य का प्रकाश
घने हरे जंगल में सुबह-सवेरे
हरी हो जाती है वह लड़की
वृक्षों की फुनगियाँ आपस में फुसफुसाती हैं
जैसे सुन ली हो उन्होंने अपनी मातृभाषा
सुबह-सुबह
विदेश की धरती पर.

लड़की जाती है सुबह-सुबह घास के मैदान में
जहाँ एक जोड़ी क्रीमी रंगत वाले घोडे
चर रहे हैं ओस की बूंदों से ढकी घास
चकित रह जाती है वह लड़की
यह देख कर
कि क्रीमी रंगत वाले घोडों के
पेट के नीचे की घास
किस प्रकार बदल जाती है क्रीमी रंगत में.

जिज्ञासा और आश्चर्य भरी लड़की
आ जाती है फलों के बाग़ में
जहाँ सेब पकने के लिए तैयार हैं
और बस गयी है उनकी स्थायी खुश्बू
हवा की नमी में
एक सफ़ेद कमरे में वह लड़की
भर जाती है उस खुश्बू से
कब से, कोई नहीं जानता
कहाँ से, कोई नहीं जानता
उभरता है एक लाल रंग
स्वस्थ हो उठती है लाल चमडी
बाग़ के सेब
फट पड़ने से रोके हुए हैं स्वयम को
उस चमकते प्रकाश में.
लड़की दौड़ रही है और निरंतर दौड़ रही है
बर्फ टूट रही है,
हवा में तेज़ी आ गई है
जाग गई हैं गिलहरियाँ.

वह लड़की आती है मेरे कमरे में
जहाँ मैं सो रहा हूँ सुबह की रोशनी में
मेरे दिमाग को एक तौलिये की तरह
रंग दिया गया है कई रंगों में
किसी समय
कोड़े से लगते हैं मेरे स्वप्न में
बौखला जाते हैं -मैं और वह लड़की

क्या मैं सुन रहा हूँ
धरती से ऊपर आते पानी की आवाज़
क्या मैं देख रहा हूँ
समय कितनी तेज़ी से खिसक रहा है

लड़की और मैं
कोमलता के साथ निकल जाते हें
स्वप्नों के उस पार
धीरे-धीरे लड़की मुरझा जाती है
धीरे-धीरे मैं हो जाता हूँ संतुष्ट
और शीघ्र ही देखता हूँ मैं
सामने चमकता हुआ सूरज.

***************
अनुवाद एवं प्रस्तुति : शैलेश जैदी

No comments: