Thursday, May 8, 2008

चीनी कवि हान डांग की दो कविताएं

परिचय
चीन की साहित्यिक विधाओं में जो सम्मान और लोकप्रियता कविता को प्राप्त है वह अन्य किसी विधा को नहीं है. परंपरागत रूप से चीनी कविता 'शी', 'सी' और 'कू' नामों से अपनी पहचान रखती है. वैसे गद्य कविता का भी प्रचलन है जिसे फू कहते हैं. और अब तो मुक्त छंद की प्रवृत्ति भी पर्याप्त प्रचलन में है. हाँ परंपरागत कवितायेँ छन्दबद्ध और लयात्मक हैं. शी जिंग प्रथम क्लासिकी काव्य है जो किन शीहुआंग द्वारा पुस्तकों को जलवा दिए जाने के बाद बचा रह गया. इसमें अधिकतर प्रशस्ति कवितायेँ और लोक गीत हैं दूसरा अपेक्षाकृत अधिक लयात्मक काव्य चू सी है अर्थात चू के गीत.हान शासन काल में और उसके बाद शी काव्य की ही भांति युए फू (संगीत संस्थान ) का विकास हुआ. यह पाँच या सात पंक्तियों पर आधारित छंदों वाली कवितायेँ थीं जो आधुनिक काल तक लोकप्रिय रहीं चीन की आधुनिक कविता किसी विशेष पैटर्न का अनुकरण नहीं करती चीन के समकालीन कवियों में चेन डोंग डोंग, हान बो, हान डोंग, मो फेई, यांग जियान इत्यादी विशेष उल्लेख्य है.
[1] शोर
कुछ टूटने-टकराने का एक शोर
मैं बाहर निकला
देखा मैं ने चारों ओर
कुछ भी तो नहीं था.

और फिर एक घंटे बाद
मैं जब किचेन में गया
मैं ने देखा कि कटिंग बोर्ड नीचे गिरा हुआ है
और चारों ओर बिखरी हैं शीशे की किरचें
सब कुछ मौन है - स्तब्ध, चेतना शून्य
कटिंग बोर्ड भी और शीशे की किरचें भी
सब कुछ शान्त

अभी एक घंटा पहले भी
कील पर झूलता कटिंग बोर्ड
और उसके नीचे रखा पानी का ग्लास
इसी तरह मौन थे इसी तरह शान्त.
***************
[2] पारिवारिक रोमांस
जब भी सम्भव हो
अपनी आत्मा से प्यार करो
और जब सम्भव न हो
प्यार से गले लगाओ, बोलो
एक दूसरे को कम-से-कम देखते हुए
बने रहो सभी की दृष्टि के केन्द्र में.
किस के सम्बन्ध में सोंच रहे हो तुम ?
मैं तुम्हारे सम्बन्ध में सोंच रहा हूँ
वह भी क्रोध के साथ
जब मैं तुम्हें आमने सामने नहीं देख सकता
मैं तुम्हें देख रहा हूँ कल्पना की आंखों से
जब मैं तुम से बोलना नहीं झेल सकता
मैं तुम्हें चुपचाप बुरा-भला कहता हूँअपने ह्रदय में.

मैं चौकन्ना रहता हूँ
मैं हर समय हर गति पर दृष्टि रखता हूँ
मेरे आंखों में नींद नहीं है
हो भी नहीं सकती तुम्हारे बिना
क्यों न हम नींद में ही लिपटा लें एक दूसरे को
जकड लें कसकर,कभी न बिछड़ने के लिए
पिघल कर मिल जायं आपस में
और बहते रहें तरल की तरह
या कम-से-कम इतना हो
कि पकड़ कर एक दूसरे का हाथ
कूद पड़ें दस हज़ार खतरों से भरी ट्रेफिक की भीड़ में
आपस में घुली-मिली विराट आत्माएं.
****************
अनुवाद एवं प्रस्तुति : शैलेश जैदी

No comments: