Tuesday, March 9, 2010

मिली है जो भी हमें ज़िन्दगी ग़नीमत है

मिली है जो भी हमें ज़िन्दगी ग़नीमत है।
ये साँस चल तो रही है, यही ग़नीमत है॥

कभी दिखाए किसी को न आबले दिल के,
कभी न सोचा करें ख़ुदकुशी, ग़नीमत है॥

सफ़र से थक के यक़ीनन कहीं भी रुक जाते,
शजर न राह में था एक भी ग़नीमत है॥

किसी का क़र्ज़ नहीं है हमारी गरदन पर,
तबाह हाली में इतनी ख़ुशी ग़नीमत है॥

दिया था उसने बहोत कुछ नुमाइशों के लिए,
हमारे साथ रही सादगी ग़नीमत है॥

ये बात सच है के हम मुद्दतों से प्यासे हैं,
मगर ये प्यास है बस प्यार की ग़नीमत है॥

हज़ारों लोग हैं आते ज़रूरतों से मगर,
उदास होके न लौटा कोई ग़नीमत है॥

सुकून है के हमेशा मैं सर उठा के जिया,
हुई न रुस्वा मेरी ख़ुदसरी ग़नीमत है॥
**********

2 comments:

निर्मला कपिला said...

दूसरा पाँचवां और आखिरी शेर बहुत पसंद आये। लाजवाब गज़ल। शुभकामनायें

RaniVishal said...

Samay na mil pane ke karan aapki tino post aaj padi bahut aacha likha hai aapane ...bahut accha sandesh bhi hai is gazal me !!
aapki nai post me comment ka option nahi araha isiliye yahi par comment kar rahi huan..
Nai gazal bahut hi kamaal ki hai khas kar yah sher to sidha undar utar jata hai
मैं क़ब्र में भी रहने नहीं पाया सुकूँ से,
करते रहे तामीर फ़रिश्ते दरो-दीवार॥

Aapko bahut bahut dhanywaad!